उत्तर प्रदेश में भूखमरी और बीमारी की वजह से बच्ची ने तोड़ा दम

0
174
उत्तर प्रदेश भूखमरी बीमारी
Credit JagRuk Hindustan

उत्तर-प्रदेश के आगरा शहर में भूख और बीमारी की वजह से पाँच साल की लड़की ने दम तोड़ दिया। जिसकी वजह से योगी सरकार पर विपक्ष दल के नेताओं ने तंज कसना शुरू कर दिया। कांग्रेस से प्रियंका गाँधी ने कहा ये घटना यूपी सरकार के माथे पर कलंक हैं। सरकार सिर्फ और सिर्फ दिखावा करती हैं। सरकार द्वारा किये गये दावे खोखले हैं। उत्तर प्रदेश में भूखमरी और बीमारी से बच्ची की जान गवाना एक दुखद घटना है।

विस्तार -

उत्तर-प्रदेश के ताज शहर आगरा में रहने वाली सोनिया जो की मात्र पाँच साल की थी। उसकी भूख और बीमारी की वजह से मृत्यु हो गयी। उसके परिवार ने बताया की उनके पास एक सप्ताह से अनाज का एक दाना तक नहीं था।घर में पैसा तक नहीं था। तथा 7000 बिजली का बिल ना जमा करने पर उनके घर की बिजली तक काट दी गयी थी। बीते शुक्रवार को सोनिया की तबीयत खराब हो गयी तथा इलाज और भूख के अभाव से सोनिया ने दम तोड़ दिया। शीला देवी जो कि बच्ची की माँ हैं, उन्होने बताया कि जब नोटबंदी हुई थी तो उस समय उन्होने भूख और बीमारी की वजह से अपने आठ साल के बेटे को खो दिया था। उन्होने गरीबी और भूखमरी की वहज से अपनी पाँच साल की बेटी को खो दिया। इसकी जानकारी प्रियंका गाँधी ने विडियो शेयर करके दिया हैं। प्रिंयका गाँधी ने विडियों साझा करते हुए कहा कि यह घटना उत्तर-प्रदेश सरकार के माथे पर एक कलंक हैं।

क्या कहा प्रियंका गाँधी ने-

प्रियंका गाँधी को जैसे ही इस घटना की खबर मिली उन्होने इस पीडित परिवार का विडियों शेयर किया जिसमें पीड़ित परिवार ने कहा कि एक सप्ताह से अन्न ना होने की वजह से भूख के कारण उन्होने अपनी बच्ची को खो दिया हैं। प्रियंका गाँधी ने योगी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि ये सरकार केवल खोखले वादे करती हैं। इस सरकार में दिखावे के अलावा कुछ नहीं हैं। 

उन्होने कहा कि ये सरकार इतनी आत्ममुग्ध हो चुकी हैं, कि इस सरकार को किसी गरीब और असहाय व्यक्ति की आवाज तक सुनायी नहीं  देती हैं। ये सिर्फ और सिर्फ कागजी दिखावा करते हैं। कुछ मीडिया चैनलो के जिरये ये सरकार अपने खोखले दावे तथा खोखले आदेशो से द्वारा अपनी प्रशंसा करा कर काम चला रही हैं।

उत्तर-प्रदेश में आये दिन आत्महत्या और भूखमरी की बढ़ती हुई घटना ही इस सरकार की सच्चाई हैं।

उन्होने आगे ये भी कहा कि योगी सरकार द्वारा आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगो के लिए क्या कार्य किया जा रहा हैं। जो घटना आज आगरा में हुई हैं, वो घटना दुबारा कभी नहीँ घटेगी इसके बारे में सरकार द्वारा क्या कार्य किया गया हैं। उत्तर प्रदेश में भूखमरी और बीमारी से बच्ची की जान गवाना एक दुखद घटना है।

क्या कहा इस पर आगरा के डीएम ने -

जब इस घटना की खबर आगरा के डीएम प्रभु एन सिंह को मिली तो उन्होने इस खबर की जाँच के लिए तहसीलदार सदर प्रेमपाल सिंह को कहा उन्होने बच्ची की मौत कैसी हुई हैं। इसकी रिपोर्ट डीएम प्रभु एन सिहं को सौपा। उनकी रिपोर्ट में लिखा हैं, कि बच्ची की मौत डायरिया से हुई हैं। तथा बताया कि जिस लड़की की मौत हुई हैं, वह एनिमिया पीड़ित भी थी। डीएम ने बताया कि लड़की के पिता ने बताया हैं, कि बेटी को दूध पिलाया था। जिसके बाद उसे दस्त होने लगा तथा उनके पास पैसे नहीं थे। जिसकी वजह से बेटी का इलाज नहीं करा पाये और उसकी मृत्यु हो गयी। ना कि भूखमरी से उसकी मृत्यु हुई हैं।

उन्होने ये भी कहा कि उनके द्वारा पीड़ित परिवार को राशन दे दिया गया हैं। तथा इसकी भी व्यवस्था की गयी हैं, कि उस परिवार को जल्द से जल्द राशन कार्ड मुहइया कराया जाये। तथा उनके गाँव में स्वास्थ्य कर्मियों की टीमों ने सभी निवासियों से मुलाकात की तथा उन्हे मल्टी विटामिन और कैेल्शियम की गोलिया दी गयी हैं। तथा शिला देवी के घर पर बिजली बहाल करने को भी कहा गया हैं। तथा वहाँ के राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिया गया हैं, कि वो सरकार द्वारा गरीब-विरोधी योजनाओ के जो लोग पात्र है, उनको उस योजना के लाभार्थी के रूप में शामिल किया जाये।

देश की हर ताजा खबर की अपडेट के लिए हमारी साइट जागरूक हिंदुस्तान से जुड़े। हमारे नए आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाने के लिए आप हमारे फेसबुक और ट्विटर पेज से जुड़ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here