International Booker Prize; गीताजंलि श्री को मिला इंटरनेशनल बुकर प्राइज उनकी रचना Tomb Of Sand के लिए

Date:

Booker Prize Winner 2022 ; गीतांजलि श्री ने देश का सर गर्व से ऊपर कर दिया हैं। आपको बता दे कि उनको उनकी रचना Tomb OF Sand (टॉम्ब ऑफ सैंड) के लिए मिला हैं International Booker Prize 2022, ये हिंदी भाषा में पहली रचना हैं,जिसे बुकर सम्मान मिला हैं। 

Booker Prize Winner 2022-

Geetanjali Shree जो कि एक भारतीय साहित्यकार हैं। उन्होने आज भारत देश का नाम इंटरनेशनल बुकर सम्मान 2022 जीत कर रोशन कर दिया हैं।  उनका ये उपन्यास हिंदी में रेत की समाधि (Ret Ki Samadhi) के नाम से छपा था। जिसे अमेरिकन ट्रांस्लेटर डेजी रॉकवेल (American Translator Daisy Rockwell) ने अंग्रेजी में ट्रांसलेट किया था और इसका रचना का नाम टॉम्ब ऑफ सैंड (Tomb Of Sand) रख दिया। ये दुनिया की उन 13 किताबों में शामिल हो गयी हैं, जिसे बुकर सम्मान से नवाजा जा चुका हैं। 

बीते कल गीतांजलि श्री को लंदन में इस पुरस्कार के लिए ये सम्मान दिया गया हैं। गीतांजलि श्री को 5 हजार पाउंड की इनामी राशि (50000 Pounds Winning Prize) मिली  हैं। जिसे वो इसकी अग्रेजी लेखक डेजी रॉकवेल के साथ शेयर करेंगी। इस किताब का प्रकाशन किया हैं राजकमल प्रकाशन ने और ये इनकी पहली प्रकाशन हैं, जिसे बुकर सम्मान मिला हैं। 

Tomb Of Sand Story in Hindi-

टॉम्ब ऑफ सैंड की कहानी एक 80 साल की बुजुर्ग विधवा की कहानी है। जो 1947 में भारत और पाकिस्तान के विभाजन के बाद अपने पति को खो देती है। इस घटना के बाद वह गहरे अवसाद में चली जाती है। काफी मुश्किलो के बाद वह अपने अवसाद पर काबू पा पाती हैं। और विभाजन के दौरान पीछे छूटे अतीत का सामना करने के लिए वह पाकिस्तान जाने का फैसला करती है। 

देश-विदेश से जुड़ी जानकारी पाने के लिए हमारे साइट जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े तथा हमारे फेसबुक और ट्वीटर अंकाउड को फालो करके हमारे नये आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाये। Bharat Drone Mahotsav 2022 | 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related