भुवनेश्वर में हुई एक घटना जो मानवजाति को शर्मसार करती है –

1
222

इन बेजुबान जानवरो को क्यों मारते हो, इनसे थोड़ा प्यार करके तो देखो इनसे ज्यादा वाफादार कोई नहीं होता।

जहाँ पूरी दुनिया कोरोना जैसी महामारी का सामना कर रही है और हर प्रदेश और देश की सरकारे लोगो से आग्रह कर रहीं है कि लोग इस संकट के समय में एक दूसरे की मद्द करे और आपके आस-पास कोई जरूरतमंद दिखाई दे तो आप उसकी सहायता करे तथा कई ऐसे संगठन भी है जो सड़क पर बेजुबान जानवरो की भी मद्द कर रहे, इस लॉकडाउन की वजह से शहर के सभी रेस्टोरेन्ट तथा अन्य खाने-पीने से सम्बन्धित दुकाने बंद हो चुकी है जिनसे बचने वाली जुठन से ये पेट भरते है लेकिन हममें से कुछ लोग तो इंसानियत ही खो बैठे है।

"मानवजाति को शर्मसार करने वाला ऐसा ही एक मामला उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर से सामने आया है, भुवनेश्वर की एक महिला ने एक स्ट्रीट डॉग जो की प्रेगनेन्ट थी, उसको इस कदर डंडे से मारा की उसकी हालात काफी खराब हो गयी तथा वह इतनी घायल हो गयी कि वह अपनी जगह से हिल भी नहीं पा रही थी और वही पर दर्द से कराह रहीं थी कि पास के ही कुछ लोग ने उसे जानवरो के हॉस्पिटल तक ले गये परन्तु इलाज के दौरान वँहा उसकी मौत हो गयी।"

भुवनश्वर के लिंगाराज पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी निरक्षक शरद चन्द्र पात्रा ने बताया कि कुछ लोगो ने इस घटना से सम्बन्धित मामले की शिकायत थाने में करी उन्होने बताया कि कुछ लोगो ने एक प्रगेनेन्ट डॉग की डंडे से बहुत बेरहमी से पिटाई की है, जिनमें एक महिला भी शामिल है तथा इस पिटाई से वह बेजुबान जानवर अधमरी हो चुकी थी तथा बाद में लोगो ने उसे पास ही स्थिति तरजु पेट केयर नामक हॉस्पिटल में पहुचाँया।

थाना प्रभारी ने बताया कि उन्होने उस महिला तथा अन्य सभी लोग जिन्होंने इस शर्मनाक घटना को अंजाम दिया है, उन पर एफआईआर रजिस्टर कर ली गयी है तथा उन पर आईपीसी की धारा 268 (लोककंटक कानून), धारा 429 (किसी जानवर को बेरहमी से मारना अथवा उसकी हत्या करना) और सेक्सन 11 जानवरो के प्रति हो रहे अत्याचार को रोकने के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है तथा उन पर जल्द से जल्द कार्यवाही का आसवासन भी दिया।

वहाँ के एक सोशल वर्कर जो की एक ऐनिमल वेल फेयर ट्रस्ट की सदस्य भी है, उन्होने बताया है कि उन्हे इस घटना की सूचना 21 अप्रैल को मिली है, जिसमें उन्हे पता चला कि एक कुत्ते को बहुत बुरी तरह से पीटा गया तथा वो लाचार अवस्था में दर्द से कराह रहा है उन्होने बताया कि यह खबर पाते ही अपने साथियो के साथ घटना स्थल पर पहुची तथा उसे हॉस्पिटल तक ले गयी वँहा उन्हे पता चला कि यह प्रगेनेन्ट है डॉक्टरो ने तुरन्त ही इलाज शुरू किया तथा कुत्ते को बचाने के लिए एक सर्जरी भी की उसने दो बच्चो को जन्म दिया जिसमें से एक की मृत्यु हो गयी तथा दूसरा जिंदगी से लड़ रहा है तथा उन्होने ने कहा कि हमारी बहुत सी कोशिशो तथा आठ दिन तक चले इलाज के बावजूद भी इस बेजुवान को बचाने में हम असमर्थ रहे तथा उन्होने कहा कि यह घटना हमारे समाज के लिए एक शर्म की बात है।

इसके समर्थन में कुछ एनिमल लवर्स ने कल सोशल मिडिया प्लेटफार्म ट्वीटर पर अपना रोष जाहिर करते हुए एक #JusticforApril  ट्रेंड कराया ताकि इसमें सम्मिलित लोगो को जल्द से जल्द सजा देने कि माँग की जिससे भविष्य में कोई ऐसी शर्मनाक घटना को अंजाम ना दे।

ऐसे ही देश दुनिया तथा मनोरंजन जगत से जुड़ी खबरो की जानकारी के लिए हमारे साथ आईये और फालो कीजिए हमारे  फेसबुक   पेज को और जुड़े रहिये हमारे जागरूक हिंदुस्तान साइट से।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here