पकिस्तान के करांची में १३ साल की एक नाबालिक ईसाई लड़की अपहरण

0
उत्तरप्रदेश हथरस दुष्कर्म केस
Credit JagRuk Hindustan

पकिस्तान के करांची में १३ साल की एक नाबालिक ईसाई लड़की अपहरण, जबरजस्ती धर्म बदलने और शादी करने का मामला सामने आया है। पीड़ित परिवार ने अपनी लड़की के लिए करांची में न्याय की मांग को लेकर प्रदर्शन भी किया।

पकिस्तान के करांची में एक 13 साल की नाबालिक ईसाई लड़की उठा ली जाती है और उसका जबरजस्ती धर्म परिवर्तन और शादी करने पर लोगो का गुस्सा तेजी से भड़क गया है। लोगो ने करांची में प्रदर्शन किया और दोषी के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग भी की। पकिस्तान में यह घटना पहली बार नहीं हुयी है ऐसी घटनाये पहले भी होती रही है। लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की जाती रही।

सिंध सूबे की राजधानी करांची बहुत बड़े स्तर पर धर्म परिवर्तन के लिए बदनाम है। करांची में 13 अक्टूबर को ईसाई लड़की जिसका नाम आरजू राजा को दिनदहाड़े रेलवे कॉलोनी में स्थित उसके पड़ोसी ने उसको उठवा लिया और धर्म परिवर्तन और शादी कर ली। इस सब के बाद पुलिस ने पीड़िता के घर वालो को बताया की आपकी लड़की आरजू ने धर्म परिवर्तन यानि इस्लाम कबूल कर लिया है और ४४ साल के अपहरणकर्ता अली अजहर से शादी कर ली है।

आरजू के परिवार वाले पुलिस की बाते मानने से इंकार कर दिया और और आरोपी के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई और अपनी लड़की को सुरक्षित वापस लेन पर अदालत में याचिका भी दायर की है। सबसे बड़ी बात यह की इससे पहले सिंध हाईकोर्ट ने बच्ची के निकाह को सही कहते हुए पुलिस को मुख्या आरोपी के ऊपर कोई कार्यवाही नहीं करने को कहा था साथ में कोर्ट परिसर के कुछ लोग द्वारा आरजू की माँ रीता मसीह को धमकी भी दी गयी।

बुधवार को करीबन 400 लोगों ने सेंट पैट्रिक कैथेड्रल और करांची प्रेस क्लब पर जाकर प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शन में ज्यादातर ईसाई धर्म के लोग ही थे। जितने भी प्रदर्शन कर रहे थे उन्सब्कि मांग लड़की के परिवार वालो को सुरक्षा देने की और पकिस्तान सरकार और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों ने अपना गुस्सा जाहिर किया और इस घटना पर पर्याप्त मीडिया कवरेज न मिलने पर भी नाराजगी  जाहिर की और कहा की अल्पसंख्यकों की दुर्दशा को कोई भी सामने नहीं लाना चाहता है।

पकिस्तान में हुयी इस घटना को सुनकर ब्रिटिश सांसदों के क्रॉस पार्टी समूह ने इस घटना पर अपनी निंदा प्रकट की है। और यह कहा की पकिस्तान सरकार पीड़ित घरवालों को जल्द से जल्द न्याय दिलवाया जाये। पकिस्तान में धर्म परिवर्तन कर शादी करना आम बात हो गयी है। यहाँ पर लगभग हर साल 1000 से ज्यादा ईसाई और हिन्दू महिलाओ और लड़कियों का अपहरण करके धर्म परिवर्तन कर शादी करवा दिया जाता है। इसमें ज्यादातर 12 साल से 25 साल की लड़कियाँ या महिलायें होती है है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here