मानवता हुई शर्मसार प्रैग्नेन्ट हथिनी को खिलाया पटाखे से भरा अनानास

2
117

बेजुबा थी, गर्भवती थी, भूखी थी, कसूर उसका इतना था, कि उसने इंसानो पर भरोसा किया, इंसानो ने उसे पटाखो से भरा फल खिला, उसका भरोसा तोड दिया। केरल में एक मादा हाथी की निर्मम हत्या ने एक बार फिर यह सोचने पर मजबूर कर दिया है कि लोगो में इंसानियत बची भी है कि नहीं यह घटना मानवजाति को शर्मसार करने वाली है। केरल के एक मादा हाथी जो प्रेग्नेन्ट थी और भूखी थी उसको कुछ लोगो ने विस्फोटक पटाखो से भरा अनानास खिला दिया जिसकी वजह से उस मादा हथिनी की मौत हो गयी।

क्या है पूरी कहानी –​

केरल के कोच्चि में 27 मई को एक मादा हथिनी जो कि प्रेग्नेन्ट उसको भूख लगी थी जिसकी वजह से उसको कुछ लोगो ने अनानास में विस्फोटक पटाखे भर कर उसको खिला दिया, जिसकी वजह से वह अनानास हथिनी के मुँह में ही फट गया, जिसकी वजह से हथिनी  बहुत ही बुरी तरह जख्मी हो गयी, वह विस्फोटक इतना खतरनाक था कि उस विस्फोटक से जो धमाका हुआ उसकी वजह से हथिनी के पूरे दाँत टूट गये।

उस विस्फोटक के फटने की वजह से हथिनी को जलन होने लगी वह इस कदर बेचैन हो गई कि वह खुद के बचाव के लिए एक तालाब की तरफ भागी इतनी तकलीफ होने के बावजूद भी उसने किसी भी गाँव वाले को नुकसान नहीं पहुचाँया।

​इस घटना के होने बावजूद भी वह हथिनी उस तालाब में तीन दिन तक पड़ी रही उसके मुँह में इतना घाव हो गया था कि वह कुछ खा भी नहीं पा रही थी। वह उस तालाब के पानी को थोड़ा-थोड़ा पीती रही और तीन दिन के बाद उस हथिनी ने उसी तालाब में दम तोड़  दिया।

कैसे आई लोगो के सामने इस मामले कि सच्चाई -

मानवजाति को शर्मसार करने वाली ये घटना तब सामने आई जब वन विभाग के एक अधिकारी मोहन कृष्णन ने अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट शेयर किया और उन्होनें अपने पोस्ट में लिखा कि- जब हमने देखा कि वह नदी में खड़ी है और उसका सिर पानी में डूबा हुआ था, उसे इस बात का एहसास हो गया था कि वह मरने वाली है ऐसे में उसने खड़े रहते हुए जल समाधि ले ली हो।

​उन्होने बताया कि उस हथिनी को तालाब से बाहर निकालने की जिम्मेदारी उन लोगो पर ही थी।

कैसे पता चला कि हथिनी को विस्फोटक खिलाया गया है -

वन अधिकारियों का कहना है कि जब उन्हे इस बात का पता चला तब उन्होने उस हथिनी को बाहर निकालकर उसका पोस्टमार्टम कराया। उस पोस्टमार्टम में पता चला कि उसको कुछ ऐसी विस्फोटक चीज खिलायी गयी है जिसकी वजह से उसके जबड़े टूट गये है और मुँह में गंभीर रूप से घाव है और पोस्टमार्टम के जरिये ही पता चला की वो प्रेग्नेट थी।

   इस घटना ने एक बार फिर यह साबित कर दिया की इस दुनिया में अगर सबसे ज्यादा कोई खतरनाक है तो वह इंसान खुद है।

  इससे पहले भी ऐसी ही घटना अप्रैल में हो चुकी है -

​यह घटना पंथानापुरम के जंगलो की है वहाँ अप्रैल के महीने में वन विभाग के अधिकारियों को एक हथिनी बहुत ही गंभीर रूप से घायल मिली। वन विभाग के अधिकारियो ने बताया कि उन्हें अप्रैल के महीने में एक हथिनी मिली जो झुंड से अलग थी और उसका जबड़ा भी टूट हुआ था जिसकी वह कुछ खा पी नहीं पा रही थी जब वन अधिकारी उसे पकड़ने गये तो वह अपने झुड़ में चली गयी। दूसरे दिन फिर वन अधिकारियों ने उसे अलग पाया और उसका इलाज कराया लेकिन इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई और उसे बचाया नहीं जा सका।

इस मामले पर बॉलीवुड सेलेब्स ने भी गुनहगारो को सजा देने की माँग की

        जैसे ही हथिनी को पटाखे खिलाने का मामला सामने आया सोशल मीडिया पर गुनहगारो को सजा देने की माँग होने लगी कई बॉलीवुड सेलेब्स ने भी पोस्ट शेयर करते हुए इंसाफ की माँग की अनुष्का शर्मा ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट शेयर करते हुए जानवरो के खिलाफ अत्याचार पर कड़े कानून की माँग की वही रणदीप हुड़्डा जो की एक एनीमल लवर है उन्होने कहा एक हथिनी को पटाखे खिलाना इनह्यूमन काम है इसे एक्सेप्ट नही किया जाये उन्होने अपने ट्वीट में केरल के सीएम पिनाराई विजयन और यूनियन मिनिस्टर प्रकाश जावड़ेकर को भी टैग किया और भी बहुत से बॉलीवुड सेलेब्स ने भी इस मामले की कड़ी निन्दा की है।

जाने माने बिजनेस मैन रतन टाटा जी ने इस मामले की कड़ी निन्दा की है और इसके गुनहगारो को सजा दिलाने की माँग की है।

  यह कोई पहली बार नहीं हुआ है ऐसे ही अप्रैल माह में भुवनेश्वर में एक प्रेग्नेट ड़ॉग को इतनी बुरी तरह पीटा गया की वह मर गयी उसके लिए भी जस्टिस की माँग ऐसे ही सोशल मीडिया पर हुई थी जस्टिस भी मिला लेकिन जानवरो पर हो रहा अत्याचार बंद नहीं हो रहा है, इसे रोकने  के लिए सरकार को कड़े कानून लाने चाहिए ताकी इन बेजुबान जानवरो की जान बच सके।

​"आखिरी में यही पूछना है उन हैवानो सी हरकते जो ऐसी है, तुम्हारी सच बताओ शैतान हो क्या? हथिनी को जानवर कहने वाले  तुम खुद इंसान हो क्या ?"

2 COMMENTS

  1. It is a high time millions of us are fighting to save humanity and such cruel incidents are forcing us to think, Is humanity still alive. 🙏

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here