उत्तर-प्रदेश हथरस गैंगरेप मामले में पुलिस ने परिजनो के विरोध करने पर भी आधी रात को करा दिया अंतिम संस्कार

0
126
उत्तरप्रदेश हथरस दुष्कर्म केस
Credit JagRuk Hindustan

उत्तरप्रदेश हथरस गैंगरेप मामले में देर रात जब पीड़िता का शव गाँव पहुँचा तो परिवार वालो के विरोध करने पर भी पुलिस प्रशासन ने जबरदस्ती करते हुए। भारी पुलिस बल तैनात करते हुए पीड़िता के शव का आधी रात को ही परिवार वालों से जबरदस्ती करके अंतिम संस्कार करा दिया। पहले ही हथरस के एसपी द्वारा गैर-जिम्मेदराना बयान दिया जा रहा था। और पुलिस के इस हरकत ने कानून-व्यवस्था पर और सवाल खड़े कर दिये।

विस्तार-

हरथस गैंगरेप पीड़िता का शव जब दिल्ली के सफदरगंज से देर रात 12.45 पर एंबुलेंस से पीड़िता के गाँव पहुँचा। तो गाँव वालो द्वारा न्यान की माँग करते हुए। सड़क पर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा था। जब एंबुलेंस अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जा रहा था। तो लोगो ने उसे रोक दिया पीड़िता के गाँव के पास शव करीब 2.35 तक रूकी रही थी। पीड़िता की माँ बार-बार कह रही थी। कि शव को घर ले जाया जाये। इसके बावजूद भी पुलिस प्रशासन ने पीड़िता के पिता और भाई को पीड़िता का अंतिम संस्कार करने के लिए राजी करने में जुट गये । विरोध करने वाले जिसमें औरत-पुरूष सब मौजूद थे। पुलिस धक्का देते हुए आगे बड़ गयी और परिजनो को समझाने में जुट गयी की शव का अंतिम संस्कार कर दो लेकिन परिजन अपनी बात पर अड़े रहे। जब पीड़िता के परिजन नहीं माने तो पुलिस ने भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात करके पीड़िता का अंतिम संस्कार 2.45 पर करा दिया गया।

परिजनो द्वारा पुलिस पर लगाये गये आरोप-

हथरस गैंगरेप पीड़िता के भाई ने पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस ने पीड़िता की एफआईआर दर्ज करने मे 10 दिनो का समय लगा दिया। तथा पुलिस गैेगरेप के आरोपियों में से अगर को पकड़ती थी तो दूसरे को छोड़ देती थी। जब पूरे भारत में और उत्तर-प्रदेश में हर जगह पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए विरोध-प्रदर्शन किया जाने लगा तब जाके पुलिस ने आरोपियों को पकड़ा। भाई का कहना हैं, कि जब पीड़िता पुलिस स्टेशन बयान दर्ज कराने पहुची तो पुलिस ने बयान दर्ज नहीं  किया और कहा कि इसे यहाँ से ले जाओ ये बहाने बनाकर यहाँ  लेटी हुई हैं। इसके साथ कोई रेप नहीं हुआ हैं। पीड़िता दर्द से कहारती रही और पुलिस ने एंबुलेन्स तक नहीं बुलवाया। 

और वही कल हथरस के एसपी ने भी मीडिया के सामने ये बयान दिया कि ये रेप का मामला नहीं हैं। पीड़िता की जीभ नहीं कटी हुई थी। और नहीं उसकी हड्डियाँ टूटी हुई थी। जबकि मेडिकल रिपोर्ट में भी ये आ गया हैं, कि पीड़िता की जीभ कटी हुई थी। और गर्दन की हड्डी भी फ्रैक्चर थी। 

इस मामले में पूरे देश में आक्रोश का माहौल हैं,सभी लोग पीड़िता को न्याय दिलाने  की माँग कर रहे हैं।जिसके लिए सोशल मीडिया से हर जगह पीड़िता को न्याय दिलाने की माँग उठायी जा रही हैं। तथा कई जगह योगी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया जा रहा हैं।

उत्तर-प्रदेश व देश-दुनिया से जुड़ी खबरे पाने के लिए हमारे साइट जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े तथा हमारे फेसबुक और ट्वीटर अंकाउड को फालो करके हमारे नये आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here