How Russia Ukraine War Will Effect India रूस यूक्रेन वार से भारत में महंगाई दिखा सकती है अपना प्रबल रूप

Date:

Russia Ukraine war रूस यूक्रेन वार से भारत में महंगाई दिखा सकती है अपना प्रबल रूप। रूस और यूक्रेन के बीच चल रहा युद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा। दोनों तरफ से लगातार हमले पर हमले हो रहे है। 

वही रूस के इस कदम की पश्चिम देशो में निंदा भी हो रही है। इसी के साथ अमेरिका ब्रिटेन सहित कई देशो ने रूस पर काफी सारे प्रतिबन्ध भी लगा दिए है। जिससे की रूस सहित कई देशो की इकॉनमी पर असर पड़ रहा है। कोरोना महामारी से अभी जहा विश्व की सारी अर्थव्यवस्था धीरे धीरे उभर रही थी। इसी बीच रूस का यूक्रेन पर हमला करना, अर्थव्यवस्था के लिए एक नया रोड़ा बन गया।

आइये जानते है यूक्रेन और रूस के बीच होने वाली इस लड़ाई से भारत में आम आदमी की जेब पर कितना असर पड़ेगा। Russia Ukraine War

पेट्रोल डीज़ल की कीमत हो वृद्धि -

रूस यूक्रेन के बीच की इस लड़ाई की वजह से कच्चे तेल की कीमतों में ऐतिहासिक बढ्ढोत्तरी देखने को मिली है। वही अमेरिका और ब्रिटेन द्वारा रूस पर तेल निर्यात को लेकर लगाई गयी प्रतिबंधों की वजह से भारत पर काफी असर देखने को मिल सकता है। युद्ध न होने की अवस्था में भारतीय सरकार ने इस साल कच्चे तेल की अंतरष्ट्रीय बाजार में कीमत 70 डॉलर तक रहने का अंदाजा लगाया था। Russia Ukraine war

लेकिन युद्ध की वजह से ये 130 डॉलर तक पहुंच चूका है। वही अभी इसमें और बढ़ोत्तरी होने की सम्भावना है। जिससे की भारत में तेल कंपनियों को नुकसान हो रहा है। जिससे की उनपर कीमते बढ़ने का दबाव बन रहा। एक रिपोर्ट की माने तो तेल की कीमते 15 से 20 रुपये प्रति लीटर बढ़ सकती है ।

खाद्य पदार्थो सहित अन्य चीजों के दाम में वृद्धि की सम्भावना

तेल की कीमतों में वृद्धि का प्रभाव हर वस्तु पर पड़ना निश्चित है। प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से। इसके साथ सोने चंडी की चीजों में भी भरी उच्चार देखने को मिला है। वही भारत खाने के तेल के लिए भी रूस और यूक्रेन पर निर्भर करता है। भारत अपना 90% सनफ्लॉवर आयल रूस और यूक्रेन से लेता है। इस कनफ्लिक्ट से भारत ने सनफ्लॉवर तेल की सप्लाई अवरोधित न हो इसको लेकर चिंता है। 

दवा के दाम में वृद्धि की सम्भावना -

वही इस युद्ध का असर फार्मा के क्षेत्र में दिख रहा है। कंपनियों का कहना है की बेंजीन और अन्य पेट्रोलियम पदार्थो से निकलने वाले कच्चे सामने के दामों में वृद्धि हो सकती है। साथ ही युद्ध और आगे बढ़ने पर इनकी कमी होने की भी सम्भावना है। जो की काफी चिंता का विषय है। Russia Ukraine war

इसी के साथ भारत यूक्रेन और रूस को बड़ी मात्रा में फार्मा प्रोडक्ट सप्लाई करता है। जिससे की भारत की फार्मा कंपनियों को काफी मुनाफा होता है। युद्ध की वजह से निर्यात में भी अवरोध पड़ सकता है।

Russia Ukriane War से जुड़ी जानकारी पाने के लिए हमारे साइट जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े तथा हमारे फेसबुक  और  ट्वीटर अंकाउड  को फालो करके हमारे नये आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related