अफवाहों पर ध्यान न दे क्योंकि हर जुखाम और बुखार कोरोना नही है और कोरोना (COVID-19)की शिकायत होने पर कैसे गवर्नमेंट से संपर्क करे?

1
325
Top News Headlines Today
Credit: Jagrukhindustan

कोरोना वायरस एक ऐसा वायरस हो गया है जंहा दुश्मन कही नजर नही आ रहा है, लेकिन उसके मौजूद होने की संभावना हर जगह है, जिसपर लोग कई तरह की अफवाहें भी उड़ा रहे है और लोगो को भ्रमित कर रहे है,लोगो के मन में इस कदर कोरोना का डर हो चुका है, की लोग आम सर्दी ,जुखाम और बुखार को भी कोरोना मान ले रहे है ,जबकि घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि इसकी जाँच विदेश से आये या किसी विदेशी के संपर्क में आये लोगो के लिए जरुरी है, लेकिन हमे भी सावधानी रखनी चाहिए ताकि ये और लोगो में न फैले कोरोनावायरस से निपटने के लिए पूरी दुनिया अपने-अपने तरह से प्रयास कर रही है ,भारत में भी इसके खिलाफ युद्धस्तर पर जंग लड़ी जा रही है,भारत में अभी कोरोना दूसरे स्टेज में ही है,सरकार का प्रयास है कि तीसरे स्टेज यानि मास स्प्रेड में पहुंचने से रोका जाए,चलिए हम आज आपको बताते है, वास्तविक में क्या है कोरोना और कैसे हो रहा क्या-क्या करना चाहिए, इससे बचने के लिए।

लोगो के मन में कोरोना से लेकर बहुत से सवाल उठ रहे चलिए हम आपको इसके बारे में बताते है ।

सवाल - कोरोना वायरस क्या है?

जवाब- लोगो के मन में ये सवाल भी है की ये कोरोना वायरस क्या है, तो चलिये हम आपको बताते है, कि कोरोना वायरस क्या है,  कोरोना वायरस ग्रुप ऑफ वायरस है ,यह  जुखाम और खांसी की समस्या पैदा करता है,मार्स ,सारा और कोविड की तरह ही ये खतरनाक है, क्योंकि यह फेफड़े को भी संक्रमित करता है, यह 60 वर्ष के ऊपर के लोगो के लंग्स में इन्फेक्शन पैदा करने की वजह के कारण उनके लिए ज्यादा खतरनाक है ,ये उन लोगो को ज्यादा प्रभावित करता है, जिनकी इम्युनिटी सिस्टम खराब है।

सवाल - कोरोना से बचाव कैसे करे?

जवाब- येह ड्रॉपप्लेटस इन्फेक्शन कहलाते है,जब कोई खांसता है तो मुँह से स्लाइवा निकलता है ,जो खसाने की स्पीड पर डिपेन्ड करता है, कि यह ड्रॉपलेट कितनी दूर जाता है, जादातर 3 फ़ीट की दूरी तक रहना चाहिए ऐसे में हाँथ को बार-बार चेहरे पर न ले जाये,बिना वजह बाहर न जाये एयर रूटीन चेकउप के लिए हॉस्पिटल जाने से बचे।

सवाल - मास्क पहनना कितना जरूरी?

जवाब- एन-95 मास्क उन्ही के लिए जरूरी है ,जो मरीज का सैंपल निकालते है या जिनको खाँसी जुकाम, भुखार है उनको लगाना चाहिए,बाकि लोगो को इसकी कोई जरूरत नहीं है ,इसको ज्यादा देर पहनने से घुटन भी हो सकता है अगर आपने थोड़ी देर पहनने के बाद उतारा तो यह बेकार हो जाता है आम जनता भीड़ वाली जगहों पर जाने पर थ्री लेयर वाले मास्क का इस्तेमाल करे ।

सवाल -नॉनवेज से क्या संबंध?

जवाब -नॉनवेज का कोरोना से कोई लेना देना नही है,डब्ल्यूएचओ के अनुसार आधा पका हुआ मीट या एग्स खाने से बचना चाहिए , नॉनवेज को पूरा पका कर ही खाना चाहिए,इसलिए नॉनवेज खाने से पहले ध्यान दे की वो अच्छी तरह पका है की नही ।

सवाल - अफवाह से कैसे बचे?

जवाब - लोगो को सोशल मीडिया पर मिलने वाली जानकारियो पर भरोषा करने से बचना चाहिए ,लोग डब्ल्यूएचओ या आईसीएमआर की वेबसाइट पर जाकर इसके बारे में सही जानकारी प्राप्त  कर सकते है ,सरकार द्वारा समय पर दी गई जानकारी पर ध्यान देते रहना चाहिए और अफवाहों से खुद को बचाना चाहिए।

सवाल- कोरोना का अंदेशा हो तो क्या करे?

जवाब - 80 प्रतिशत सामान्य फ्लू कोरोना जैसा दिखता है लेकिन वो कोरोना नही है ,शक तब करना चाहिए जब कोई प्रभावित देश से यात्रा करके आया हो ,किसी की ऐसी हिस्ट्री है तो वो गवर्नमेंट द्वारा जारी की गई हेल्पलाइन पर कॉल करके जानकारी दे सकता है और ले सकता है।
हेल्पलाइन नंबर -
स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय-
+91 11-2397 8046,1075

सवाल -कोरोना नॉर्मल फ्लू से कितना अलग है?

जवाब है- दोनों में अंतर इतना नही है फिर भी कोरोना खतरनाक है, क्योंकि अभी तक इसकी दवा नहीं बन पायी है और इसमें मुख्य वजह है जो लोग बाहर से ट्रेवल करके आ रहे है,क्योंकि ये वायरस चीन के वुहान शहर से फैला है और पुरे दुनिया के लिए खतरा बन चुका है इसलिए बाहर से आ रहे लोगो को कोरोना संदिग्ध मानते है।

सवाल -क्या जानवरो से इसको लेकर खतरा है?

जवाब है- अभी हम लोग स्टेज -2 पर है ऐसे में ज्यादा खतरे वाली बात नहीं है ,लेकिन अगर आप अपने पालतू जानवर को बाहर घुमाने ले जाते है तो वापसी पर उसके पैर धुलवा सकते है और अपने हैंड भी सेनेटिज़ेर से साफ़ करे ज्यादा हो तो वेंटरी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

सवाल- ट्रीटमेंट क्या है इस वायरस का?

जवाब - इसका ट्रीटमेंट मरीज के लक्षण पर डिपेंड करता है कुछ केस में दवाइयां दी जाती है और सावधानी का ख्याल रखा जाता है,अपनी ओर से ट्रीटमेंट न दे।

सवाल- गैजेट्स से कितना खतरा है?

जवाब- इसमें ये भी सवाल है लोगो के मन में की वो लैपटॉप ,मोबाइल और बहुत से गैजेटस यूज़ करते है जो मुंह के आस-पास रहते है ,ऐसे में ड्रॉप्लेट्स सबसे ज्यादा इस पर रहता है,इससे संक्रमण फैलने का खतरा रहता है ,ऐसे में मोबाइल को समय-समय पर अच्छे से साफ करना चाहिए और भी जो गजेट्स इस्तेमाल करते है उसको भी साफ रखें।

सवाल - अगर कोई छींक या खास दे तो क्या इन्फेक्शन हो सकता है ?

जवाब- अगर किसी को छींक आ रही है तो मुंह को ढक ले और टिश्यू का इस्तेमाल करे और उसे तुरंत डस्टबिन में डाल दे,कोशिश करे ऑफिस में लोगो से 3 फीट की दुरी बनाये रखने की और समय पर टेबल चेयर को अच्छे से साफ करना चाहिए ,अगर कोई विदेश नहीं गया तो घबरने की जरूरत नहीं है।

सवाल - मास्क को कैसे डिस्पोज करे?

जवाब- हॉस्पिटल में इन मास्क को येलो डस्टबिन में डालते है ,जो जलने के लियेजाता है ,आम लोगो को पहनने हुए मास्क को कही भी रखने या फेंकने से बचना चाहिए, यह संक्रमण फ़ैलाने का बड़ा कारण बनते है,इसको यूज़ करने के बाद गीला कूड़ा वाले डस्टबिन में फेक देना चाहिए ताकि यह रीसायकल न हो ,और कोई इससे संक्रमित न हो।

सवाल - हैंड वाश और सेनेटिज़ेर का इस्तेमाल कितना सही है?

जवाब- सेनेटिज़ेर में 60-70 प्रतिशत अल्कोहल है,वही सही है लेकिन इस्तेमाल करने के बाद पानी या तौलिया से हाँथ न साफ करे ,इसका असर खत्म हो जाता है और इसको इस्तेमाल करने के बाद तुरंत खाना नहीं खाना चाहिए नही तो ये भी हानिकारक होगा ।

कोरोना से बचने के लिए बेवजह घर से न निकले ,अपने शारीर कपडे ,घर व वर्कप्लेस की साफ- सफाई पर ध्यान देने, भीड़ में न जाने व् सर्दी- जुखाम वाले लोगो से दूर रहने में ही सबकी भलाई है और सरकार की बातों का पालन करना चाहिए अगर हम सब मिलकर सरकार का साथ देंगे और सावधानी रखेंगे तो इस वायरस को खत्म कर सकते है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here