भारत के ऐसे राज्य जहाँ हिन्दू अल्पसंख्यक है

1
313
Jagruk Hindustan

हम सब ये जानते है, कि भारत एक ऐसा देश है, जहाँ पर हर प्रकार के धर्म से जुड़े लोग रहते है, जैसे कि- हिन्दू धर्म, जैन धर्म, सिक्ख धर्म, बुद्ध धर्म, ईसाई धर्म और मुस्लिम धर्म तथा अन्य काफी  धर्मो के लोग है। जिसकी वजह से भारत के विभिन्न धर्म और संस्कृति ने विश्व में अपनी एक अलग ही पहचान बनायी है।

​भारत को एक हिन्दू प्रधान देश भी कहा जाता है, क्योकि भारत कि 80 प्रतिशत आबादी हिन्दू है, लेकिन क्या आप जानते है, कि भारत में भी ऐसे कई से शहर है। जिनमें हिन्दुओं की संख्या दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है। अगर हम ये कहे कि हिन्दु वहाँ अल्पसंख्यक के रूप में है तो गलत नहीं होगा।

 चलिए हम बताते है आपको की भारत के वे कौन-से राज्य है, जहाँ हिन्दुओं की संख्या बाकि धर्म के लोगो की अपेक्षा कम है तथा हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग अल्पसंख्यक है।

देश में बहुत से पत्रकारों द्वारा ये अफवाह फैलाया जा रहा है की देश को हिन्दू राष्ट्र बनाने का सडयंत्र चला रही है मोदी सरकार, लेकिन जमीनी हालत क्या है चलिए आज जानते है।

भारत में ऐसे राज्यो तथा केन्द्रशासित प्रदेशो की कुल संख्या 7 है -

​1. लक्ष्यद्वीप -

​लक्ष्यद्वीप भारत का एक केन्द्रप्रशासित प्रदेश है, जहाँ मुस्लिम धर्म की अपेक्षा हिन्दुओं की संख्या बहुत कम है। आकड़ो की माने तो यहाँ मुस्लिम आबादी 96.6 प्रतिशत वही हिन्दुओ की आबादी 2.8 प्रतिशत है।

​2. जम्मू एवं कश्मीर -

जम्मू-कश्मीर कौन नहीं जानता है, जम्मू-कश्मीर भारत का एक ऐसा राज्य है, जहाँ हिन्दू अल्पसंख्यक के रूप में है। यहाँ मुस्लिमो की अपेक्षा हिन्दुओं की संख्या काफी कम है। जम्मू-कश्मीर में जहाँ मुस्लिमों की संख्या 68.3 प्रतिशत है, वही हिन्दुओ की संख्या 28.4 है।

​3. अरूणांचल प्रदेश -

​अरूणांचल प्रदेश का अर्थ होता है, हिन्दी में उगते सूर्य का पर्वत, जिसमें अचल का मतलब पर्वत होता है। इस प्रदेश के लोग भी तिब्बती-बर्मी मूल के है। जिसकी वजह से यहाँ पर ईसाईयों की अपेक्षा हिन्दुओ की संख्या कम है। आकड़ो की माने तो यहाँ ईसाईयो की संख्या 30 प्रतिशत और वही हिन्दुओ की संख्या 29 प्रतिशत है।

​4. नागालैण्ड -

​यह भारत का एक उत्तरी पूर्वी राज्य है। नागालैण्ड में कुल 16 जनजातियाँ रहती है। नागालैण्ड भारत के उन तीन राज्यो में से एक ऐसा राज्य है। जहां पर हिन्दुओ की अपेक्षा ईसाईयो की संख्या सबसे ज्यादा है। आकड़ो की माने तो यहाँ ईसाईयो की संख्या जहाँ 87.9 प्रतिशत है, वही हिन्दुओ की संख्या 8.8 प्रतिशत है।

​5. मिजोरम -

​ये भारत के पूर्व और दक्षिण में म्यांमार और पंश्चिम में बंग्लादेश के बीच स्थित होने के कारण ये पूर्वोत्तर में मिजोरम सामरिक दृष्टि से अत्यधिक महत्वपूर्ण राज्य है। यहां पर भी नागालैण्ड की तरह ही ईसाई धर्म से जुड़े लोगो की आबादी सबसे अधिक है। आकड़ो की माने तो यहां 87.2 प्रतिशत ईसाई तथा 2.8 प्रतिशत हिन्दू रहते है।

​6. मेघालय -

​मेघालय का हिन्दू में अर्थ होता है बादलों का घर। तथा ब्रिटिश राज के समय तात्कालीन अधिकारियों द्वारा इसे पूर्व का स्काटलैण्ड भी कहते है। ये भी नागालैण्ड और मिजोरम की तरह ही उस राज्य में आता है। जहाँ हिन्दुओ की तुलना में ईसाई धर्म को मानने वाले लोगो की संख्या सबसे अधिक है। आकड़ो की माने तो यहाँ ईसाईयो की संख्या 74.6 प्रतिशत है, वही हिन्दुओ की संख्या 11.5 प्रतिशत है।

​7. पंजाब -  

​भारत में पंजाब को अन्न भंडार तथा भारत में सबसे अधिक प्रति व्यक्ति आय के लिए भी जाना जाता है। ये बात हर कोई जानता है, पंजाब में सिक्खों की संख्या हिन्दूओ की अपेक्षा काफी ज्यादा है। आकड़ो की माने तो पंजाब में हिन्दुओं ​की संख्या 38.5 प्रतिशत तथा वही सिक्खो की संख्या 57.7 प्रतिशत है।

भारत में कई धर्मो के लोग एक साथ मिलकर रहते है तथा भिन्न धर्मो तथा धारणाओं को मानने वाले लोगो के रहने के बाद भी इस देश में लोग अपनी मातृभूमि से बहुत प्रेम करते है। तथा अन्य सभी देशों में भारत की एकता संप्रभुता की मिशाल दी जाती है।

ऐसे ही देश दुनिया तथा मनोरंजन जगत से जुड़ी खबरो की जानकारी के लिए हमारे साथ आईये और फालो कीजिए हमारे  फेसबुक   पेज को और जुड़े रहिये हमारे जागरूक हिंदुस्तान साइट से।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here