Kanpur Case; कानपुर व्यापारी मनीष गुप्ता केस में सोशल मीडिया पर हो रहा हैं एक वीडियो वायरल पुलिस पर आरोप

Date:

Kanpur Case; गोरखपुर के एक होटल में पुलिस की बर्बरता से बर्रा के रियल स्टेट व्यापारी मनीष गुप्ता के मौत के मामले में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा हैं, जिसमें आरोपी पुलिसकर्मियों के बचाव में डीएम और एसएसपी परिजनों से केस नहीं दर्ज करने का दबाव बनाते हुए साफ देखे जा सकते हैं और डीएम विजय किरण आनंद जहां केस दर्ज होने के बाद कोर्ट में सालों तक चक्कर लगाने की बात करते हैं। 

कानपुर व्यापारी केस-

कानपुर के व्यापारी संदीप गुप्ता केस के मामले में एक नया मोड़ आया हैं, जहाँ परिजनो द्वारा कल व्यापारी के शव का दाहसंस्कार करने से मना किया जा रहा था। तथा सीएम योगीआदित्यनाथ से मिलने की बात कही गयी थी। लेकिन कानपुर की डीसीपी साउथ रवीना त्यागी द्वारा समझाने पर परिजन मान गये और दाहसंस्कार कर दिया। 

इसी बीच जिन पुलिसवालो पर व्यापारी के हत्या का आरोप लगा हैं, उन्हे संस्पेंड तक कर दिया गया हैं। आज उनके परिवार से मिलने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पहुँचे उनकी पत्नी मिनाक्षी का आरोप हैं, कि पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी पुलिसवालो को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाये। तथा सरकारी नौकरी दी जाये और 50 लाख रूपये का मुआवजा दिया जाये तथा सीबीआई जाँच की जाये। 

वहीं पुलिस द्वारा बयान जारी किया गया हैं, जिसमें कहा गया हैं, कि होटल कमरे में जाँच करने पहुँची क्योकि तीन संदिग्ध के होने की बात कही गयी हैं। जिसमें होटल में जाँच करने के दौरान होटल में भगदड़ मच जाने के कारण व्यापारी फर्श पर गिर गया, हम उसे अस्पताल ले गये जहाँ उसकी मृत्यु हो गयी हैं।

6 पुलिसवालो का नाम परिवार द्वारा बताया गया हैं। लेकिन पुलिस एफआईआर में केवल तीन पुलिसवालो का नाम दर्ज किया गया हैं। 

उत्तरप्रदेश के सीएम योगीआदित्यनाथ भी आज परिवाज से मिले हैं। और निष्पक्ष जाँच की बात कही हैं। 

Manish Gupta Death Case-

सपा द्वारा ये कहा गया हैं, कि पुलिस वालो को बचाने का काम किया जा रहा हैं, जिसको लेकर उन्होने एक वीडियो वायरल भी किया हैं। जिसमें डीएम, एसपी संदीप गुप्ता की पत्नी मिनाक्षी गुप्ता से बात एक बंद कमरे में बात कर रहे हैं, जिसमें आरोपी पुलिसकर्मियों के बचाव में डीएम और एसएसपी परिजनों से केस नहीं दर्ज करने का दबाव बनाते हुए देखा जा सकता हैं. यहां तक कि डीएम विजय किरण आनंद जहां केस दर्ज होने के बाद कोर्ट में सालों तक चक्कर लगाने की बात करते हैं, तो वही एसएसपी डॉ विपिन टाडा पूरे प्रकरण की विवेचना होने और क्लीन चिट मिलने तक पुलिसकर्मियों के संस्पेंड की बात कह रहे हैं।

JagRuk Hindustan इस वायरल वीडियो की पुष्टि  नहीं करता हैं।

Gorakhpur Case-

उत्तर प्रदेश सीएम योगीआदित्यनाथ ने कहा कि आरोपी कोई भी हो बख्सा नहीं जायेगा। परिवार से मिलकर केस की निष्पक्ष जाँच करने और पीड़िता को नौकरी तथा 10 लाख का मुआवजा दिये जाने की बात कही हैं। उनकी पत्नी का कहना हैं, कि सीएम की बात पर हमें पूरा भरोषा हैं। उन्होने कहा हैं कि केस को कानपुर ट्रांसफर किया जायेगा और अगर वो सीबीआई जाँच चाहती हैं तो वो भी होगा। 

Kanpur Case; देश-दुनिया से जुड़ी जानकारी पाने के लिए हमारे साइट जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े तथा हमारे फेसबुक  और  ट्वीटर अंकाउड  को फालो करके हमारे नये आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related