The Kashmir Files; वो महिला जिसकी वजह से हुआ था कश्मीरी पंडितो का नरसंहार

Date:

The Kashmir Files | Kashmiri Pandit | Kashmir History | 90 के दशक में कश्मीर की घाटी में जिस तरह से कश्मीरी हिन्दुओ व पंडितो का नरसंहार हुआ था। औरतो के साथ बर्रबरता की गयी। इन सबकी वजह थी एक महिला जिसके इशारे पर हुआ था ये नरसंहार

कश्मीर का इतिहास-

Kashmir Files में दिखाया गया हैं, कि किस तरह से 90 के दशक में कश्मीर की घाटी में कश्मीरी पंडितो तथा हिन्दुओ के साथ बर्बरता की सारी हदे पार कर दी गयी थी। 1990 में कश्मीर की मस्जिदों (Mosques of Kashmir) से अजान के साथ नारे गूजंने की भी आवाजें आनी शुरू हो गई थी। यह नारे थे 'कश्मीर में अगर रहना है, आल्लाहू अकबर कहना है', 'यहां क्‍या चलेगा, निजाम-ए-मुस्तफा', 'असि गछि पाकिस्तान, बटव रोअस त बटनेव सान' इसका मतलब हमें पाकिस्‍तान (Pakistan) चाहिए और हिंदू औरतें भी मगर अपने मर्दों के बिना। यह तमाम नारे कश्‍मीरी हिंदू पंडितों (Kashmiri Hindu Pandits) के लिए थे।

Benazir Bhutto-

कश्मीर की घाटी में जब ये सब हो रहा था, उस समय वहाँ पर शासन में थी बेनज़ीर भुट्टो जो कि पाकिस्तान की १२वीं (1988 में) व १६वीं (1993 में) प्रधानमंत्री थीं। रावलपिंडी में एक राजनैतिक रैली के बाद आत्मघाती बम और गोलीबारी से दोहरा अक्रमण कर, उनकी हत्या कर दी गई। पूरब की बेटी के नाम से जानी जाने वाली बेनज़ीर किसी भी मुसलिम देश की पहली महिला प्रधानमंत्री तथा दो बार चुनी जाने वाली पाकिस्तान की पहली प्रधानमंत्री थीं। वे पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की प्रतिनिधि तथा मुसलिम धर्म की शिया शाखा की अनुयायी थीं। 

उनका कार्यकाल पूरा नहीं हो सका और 20 महीने बाद ही उन्हें भ्रष्टाचार के आरोप में इस पद से हटा दिया गया1 1993 में वह दूसरी बार देश की प्रधानमंत्री बनी लेकिन वर्ष 1996 में उन्हें इस पद से फिर हटना पड़ा।

Pakistan Woman PM

Credit JagRuk Hindustan

उस समय कश्मीर में कश्मीरी पंडितो व भारत के खिलाफ कश्मीर के नवजवानो को पाकिस्तान लेकर जाया जाता था और उनके दिमाग में ये भरा जाता था, कि भारत उनका दुश्मन हैं और वो लोग कश्मीर को आजाद कराना चाहते थे हैं। तो वो वहाँ के नागरिको को अपनी तरफ करे और काफिरों को यानि कश्मीरी पंडितो व हिन्दुओ को कश्मीर से खदेड़ दो। 

बाद में पाकिस्तान भारत पर आक्रमण करेगा। इस बात को खुद कबुला हैं, बिट्टा कराटे ने जिसने उस समय कश्मीरी पंडितो का नरसंहरा किया था। उसने अपने द्वारा दिये गये एक इंटरव्यू में ये कबूला हैं। जो इस समय सोशल मीडिया पर वायरल हैं।  इसलिए ऐसा कहा जाता हैं, कि उस समय जो भी कश्मीर में हुआ उसकी वजह कही ना कही बेनजीर भुट्टो भी थी। 

ऐसा कहा जाता हैं, कि चुनाव प्रचार के दौरान बेनजीर भुट्टो ने अल कायदा और अन्य आतंकवादी संगठनों की तीखी आलोचना की थी तथा सरकार पर आतंकवाद से निपटने में असफल रहने का आरोप लगाया था। 

देश-विदेश से जुड़ी जानकारी पाने के लिए हमारे साइट जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े तथा हमारे फेसबुक  और  ट्वीटर अंकाउड  को फालो करके हमारे नये आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाये।  The Kashmir Files

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related