कुशीनगर के सौन्दर्यीकरण को लेकर प्रशासन ने लिया नया फैसला

0
310
कुशीनगर का सौन्दर्यीकरण
Credit JagRuk Hindustan

कुशीनगर में आये दिन उत्तर-प्रदेश सरकार नये-नये काम कर रही इससे पहले कुशीनगर में अर्न्तराष्ट्रीय हवाईअड्डा, और कुशीनगर के मुख्य मन्दिर के पास सिंगापुर जैसे टूरिस्ट जोन का बनाया जाना हैं। ​और अब सरकर ने एक और नया फैसला लिया है, ​कुशीनगर ​का सौन्दर्यीकरण ​करने का। इस कार्य का फैसला कुशीनगर में बढ़ते हुए प्रदूषण को कम करने के लिए तथा कुशीनगर में हिरयाली को विकसित करने के लिए सरकार द्वारा लिया गया है।

कैसे होगा कुशीनगर का सौन्दर्यीकरण -

प्रदेश सरकार द्वारा कुशीनगर ​का सौन्दर्यीकरण करने का फैसला लिया गया है। इस कार्य के लिए कुशीनगर शहर में वन विकसित किया जायेगा। जिसके लिए शहर में जमीन की भी तलाश की जा रही हैं। इस भूमि पर प्रदेश सरकार के आदेश पर वन विभाग द्वारा तरह-तरह के पेड़-पौधे लगाये जायेगे। कुशीनगर में वन विकसित हो जाने से और पेड़-पौधे लग जाने से कुशीनगनर दिखने में भी अच्छा लगेगा। तथा प्रदूषण भी कम होगा। वन-विभाग के अधिकारियों का कहना हैं, कि जैसे ही भूमि मिल जायेगी कार्य शुरू कर दिया जायेगा।

कौन-कौन से पेड़ लग सकते हैं -

वन विभाग के अधिकारियों का कहना हैं, कि कुशीनगर में वन विकसित करने में यहाँ पर कई प्रकार के पेड़ लगाये जायेगे। इसमें से कुछ पेड़ फलदार तथा कुछ पेड़ ऐसे भी होगे जिनसे छाया मिलती हैं। वन-विभाग अधिकारियों का कहना है, कि इस वन में नीम, शीशम, इमली, आम, अर्जुन, जाबुन और पीपल के पेड़ लगाये जा सकते हैं। विभाग का मानना है, कि इसे प्रदूषण पर भी नियन्त्रण बना रहेगा और साथ ही साथ जैव-विवधता भी महत्वपूर्ण हैं।

वन के लिए कितनी भूमि की जरूरत होगी -

कुशीनगर शहर में वन को विकसित करने के लिए एक हेक्टेयर तक की भूमि की तलाश वन-विभाग के अधिकारियों तथा राजस्व विभाग के अधिकारियों द्वारा किया जा रहा हैं। वन-विभाग का कहना हैं, कि जल्द ही वन के लिए भूमि मिल जायेगी। इस कार्य के लिए हमारे अधिकारी भूमि तलाश करने में लगे हुए हैं।जैसे ही भूमि मिल जायेगी हम उस पर कार्य करना शुरू कर देगें।

किस-किस जगह की जा रही हैं, भूमि की तलाश -

वन विभाग के अधिकारियों का कहना हैं, कि कुशीनगर में वन विकसित करने के लिए शहर के कई हिस्सों में भूमि की तलाश की जा रही हैं। अभी इसका निर्धारण नहीं हुआ हैं, कि इस कार्य के लिए भूमि कहाँ पर आवंटित की जायेगी। जहाँ पर भी एक हेक्टेयर भूमि मिल जायेगी वही पर जगह आवंटित कर लिया जायेगा।

एक हेक्टेयर में कितने पौधे लग सकते हैं -

वन विभाग के अधिकारियों का कहना हैं, कि शहर में वन बनाने के लिए जो एक हेक्टेयर की भूमि की तलाश की जा रही हैं। उसमें कम से कम 600 के ऊपर फलदार तथा छाया देने वाले वृक्ष लग सकते हैं।

वनों की सुरक्षा की जिम्मेदारी किसकी होगी -

​कुशीनगर ​का सौन्दर्यीकरण में बनने वाले वन के अन्दर लगने वाले पौधों की जिम्मेदारी ना केवल वन-विभाग की ही हैं, अपितु इसकी जिम्मेदारी नगर पालिका तथा नगर पंचायत के सदस्यों की भी होगी। उनका ये भी कहना  है,कि ये जिम्मेदारी हर एक आम नागिरक की भी होनी चाहिए। क्योकि ये सब कार्य उनके लिए तथा शहर के सौन्दर्य को बढ़ावा देने के लिए किये जा रहे हैं।

ऐसे ही देश दुनिया तथा मनोरंजन जगत से जुड़ी ताजा खबरो की जानकारी के लिए हमारे साथ आईये और फालो कीजिए हमारे फेसबुक पेज को और जुड़े रहिये हमारे जागरूक हिंदुस्तान साइट से। हमारे ट्विटर अकाउंट को फॉलो करे।​

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here