Navratri 2022 Bhog; नवरात्रो में माँ दुर्गा को नौ दिन लगने वाला अलग-अलग भोग जानिये क्या हैं

Date:

Navratri 2022 Bhog; नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है. आज नवरात्रि का दूसरा दिन है. इन दिनों में मां दुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा की जाती है. इन 9 दिनों में मां की पूजा-उपासना के बाद 9 अलग तरह की चीजों का भोग लगाना चाहिए

Navratri 2022 Bhog-

9 दिन देवी को किन-किन चीजों का भोग लगाया जाए-

मां शैलपुत्री -

 नवरात्रि के पहले दिन देवी मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है. इस दिन मां के चरणों में गाय का शुद्ध घी चढ़ाया जाता है. कहा जाता है कि इससे आरोग्य की प्राप्ति होती है और बीमारियों से मुक्ति मिलती है।

मां ब्रह्मचारिणी-

नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा अर्चना की जाती है। इस दिन मां के इस स्वरूप को गुड़ वाली शक्कर और पंचामृत का भोग लगाया जाता है। ऐसा करने से मां लंबी आयु का वरदान देंगी और मनोकामनाएं पूरी करेंगी।

मां चंद्रघंटा-

 तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा को दूध या दूध से बनी चीजों का भोग लगाएं. मान्यता है कि दूध से बनी मिठाई का भोग लगाकर ब्राह्मणों को दान कर देना चाहिए.ऐसा करने से दुख दूर होते हैं और खुशी आती है

मां कूष्माण्डा- 

चौथे दिन मां कूष्माण्डा की पूजा की जाती है। इस दिन मां को मालपुआ का भोग लगाने की सलाह दी जाती है। कहा जाता है कि मालपुए का भोग लगाने के बाद घर के सदस्यो को भी ये खिलाएं, इससे दिमाग तेज होता है औऱ कुशलता आती है।

मां स्कंदमाता- 

 पांचवें दिन देवी स्कंदमाता को केले का भोग लगाया जाता है. और इस दिन केले का दान भी करना चाहिए।ऐसा करने से मां करियर से जुड़े  वरदान देती है और शारीरिक कष्ट भी दूर होने के योग बनते हैं। 

मां कात्यायनी-

छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा का विधान है, इस दिन मां को मीठा पान चढ़ाया जाता है, कहा जाता है कि मां को मीठा पान अर्पित करने से सौंदर्य बढ़ता है औऱ आयु भी लंबी होती है। 

मां कालरात्रि -

नवरात्रि के सातवें दिन देवी कालरात्रि की पूजा में गुड़ और मेवे के लड्डू का भोग लगाना चाहिए. इससे मां, भूत-प्रेत से मुक्ति दिलाती है और सारे कष्ट दूर करती हैं।

महागौरी-

आठवें दिन महागौरी को पूजा जाता है। इस दिन मां को नारियल का भोग लगाया जाता है। कहा जाता है कि ऐसा करने से मन की सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। इस दिन कई लोग कन्या पूजन भी करते हैं।

मां सिद्धिदात्री -

नवरात्रि के अंतिम यानी 9वें दिन मां सिद्धिदात्री को तिल का भोग लगाएं. कहा जाता है कि नवमी के दिन तिल का भोग लगाने से अनहोनी की आशंका खत्म होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related