मेडिकल छात्रों के लिए सरकार ने जोड़े आठ नए डिप्लोमा कोर्स

0
183
मेडिकल छात्रों डिप्लोमा कोर्स
Credit JagRuk Hindustan

कोरोना वायरस के संकट के समय में जिस तरीको से मेडिकल विशेषज्ञो की कमी देखने को मिली हैं। तथा जिसकी वजह से मरीजो को काफी दिक्कतो का सामना करना पड़ रहा हैं। इन सबको देखते हुए केन्द्र-सरकार ने मेडिकल छात्रों के लिए 8 नये डिप्लोमा कोर्स शुरू करने का फैसला लिया हैं।

विस्तार मेडिकल छात्रों के लिए 8 नये डिप्लोमा -

देश में कोरोना जैसी महामारी ने जिस तरीके से पैर पसारना शुरू किया हैं। जिसकी वजह से मरीजो के लिए अस्पतालो तथा स्वास्थ्य कर्मियों की भारी कमी देखने को मिली हैं। इन सब समस्याओं को देखते हुए सरकार ने एक  नया फैसला लिया हैं। जिसके तहत अब मेडिकल में 8 नये डिप्लोमा पाठ्यक्रम शुरू किये गये हैं। जिसकी वजह से भविष्य में अगर कोई ऐसी महामारी आती हैं, तो मेडिकल-विशेषज्ञो की कमी देखने को ना मिले। ये डिग्री एमबीबीएस तथा एमबीबीएस के स्तर की डिग्री प्राप्त करने के बाद ही की जा सकेगी। इसकी जानकारी केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार मंत्रालय ने दी हैं। 

क्या कहा हैं, केन्द्रीय स्वास्थ्य एंव परिवार मंत्रालय ने -

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार मंत्रालय ने करोना संकट काल में डाक्टरो तथा स्वास्थ्य कर्मियो की कमी को देखते हुए यह अधिसूचना जारी की हैं, कि अब एमबीबीएस और एमबीबीएस के स्तर की डिग्री प्राप्त कर लेने के बाद नये 8 पाठ्यक्रम शुरू किये गये हैं।

ये पाठ्यक्रम कुछ इस प्रकार हैं -

इसके साथ इसमें टीबी एंड चेस्ट डिजीजी भी शामिल हैं।

  1. एनेस्थेसियोलॉजी
  2. ओब्सोटेरिक्स
  3. गाएन्कोलॉजी
  4. पेडिएट्रिक्स
  5. फैमिली मेडिसिन
  6. ऑप्थैलमोलॉजी
  7. ईएनटी
  8. रेडियो डायग्नॉसिस

किस अधिनियम में सुधार करके ये डिप्लोमा बढ़ाये गये -

केन्द्र सरकार द्वारा भारतीय चिकित्सा परिषद अधिनियम 1956 की धारा 11 (उपधारा 2)  के तहत प्रदत्त अधिकारो का प्रयोग करते हुए तथा भारतीय चिकित्सा परिषद के अधिक्रमण के बाद गठित की गयी शासी बोर्ड से सलाह लेते हुए इन नये पाठ्यक्रमों को शामिल किया गया हैं। यह कार्य इस अधिनियम के पहले अनुच्छेद में संसोधन करके किया गया हैं।

सरकार द्वारा किये गये इस नये संसोधन का आगे चलकर मेडिकल छात्रों को नये डिप्लोमा कोर्स का काफी लाभ मिल सकेगा।

ऐसे ही शिक्षा क्षेत्र तथा अन्य नयी खबरों से जुड़े रहने के लिए हमारे पेज जागरूक हिंदुस्तान से जुड़े। हमारे फेसबुक तथा ट्विटर पेज को फॉलो करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here