Tuesday, February 7, 2023
Delhi
fog
14.1 ° C
14.1 °
14.1 °
94 %
4.1kmh
0 %
Tue
26 °
Wed
25 °
Thu
28 °
Fri
29 °
Sat
28 °

Pradosh Vrat 2023: प्रदोष व्रत 2023 में किस-किस दिन पड़ेगा व जानिए पूजा का शुभ मुहुर्त

Pradosh Vrat 2023 / Pradosh Vrat Puja Vidhi / Pradosh Vrat Katha/ प्रदोष व्रत भगवान शिव को समर्पित हैं। यह व्रत महीने में दो बार पड़ता हैं। इस व्रत को महिलाऐं पूर्ण श्रद्धा के साथ रहती हैं। हिंदू धर्म में इस व्रत का काफी महत्व हैं। जानिए 2023 में प्रदोष व्रत कब-कब किया जाएगा। 

Pradosh Vrat 2023 (प्रदोष व्रत 2023)-

बता दे कि प्रदोष व्रत हर महीने में दो बार कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष को होता है। यह व्रत दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है। कहा जाता हैं कि यदि प्रदोष व्रत सोमवार के दिन पड़ता है तो इसे सोम प्रदोषम कहते हैं। जब यह मंगलवार के दिन आता है तो इसे भौम प्रदोषम कहते हैं और शनिवार के दिन इसे शनि प्रदोषम कहते हैं। यह व्रत सूर्यास्त के समय पर निर्भर करता हैं। 

Shivratri 2022

Credit JagRuk Hindustan

प्रदोष व्रत कब हैं-

प्रदोष व्रत जनवरी में
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत (साल का पहला प्रदोष व्रत)

बुधवार, 04 जनवरी 2023
03 जनवरी 2023 को रात 10:02 बजे से - 05 जनवरी 2023 को 12:01 बजे
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत (2023 का दूसरा प्रदोष व्रत)
गुरुवार, 19 जनवरी 2023
19 जनवरी 2023 दोपहर 01:18 बजे से 20 जनवरी 2023 सुबह 10:00 बजे तक

प्रदोष व्रत तिथि फरवरी में
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत, गुरु प्रदोष व्रत

गुरुवार, 02 फरवरी 2023
02 फरवरी 2023 शाम 04:26 बजे - 03 फरवरी 2023 शाम 06:58 बजे

कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, शनि प्रदोष व्रत
शनिवार, 18 फरवरी 2023
17 फरवरी 2023 रात 11:36 बजे से 18 फरवरी 2023 रात 08:02 बजे तक

प्रदोष व्रत मार्च में
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत, शनि प्रदोष व्रत

शनिवार, 04 मार्च 2023
04 मार्च 2023 सुबह 11:43 बजे - 05 मार्च 2023 दोपहर 02:07 बजे
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत (मधु कृष्ण त्रयोदशी), रवि प्रदोष व्रत
रविवार, 19 मार्च 2023
19 मार्च 2023 सुबह 08:07 बजे से 20 मार्च 2023 सुबह 04:55 बजे तक

प्रदोष व्रत अप्रैल में
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत

सोमवार, 03 अप्रैल 2023
03 अप्रैल 2023 सुबह 06:24 बजे - 04 अप्रैल 2023 सुबह 08:05 बजे
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत
सोमवार, 17 अप्रैल 2023
17 अप्रैल 2023 दोपहर 03:46 बजे - 18 अप्रैल 2023 दोपहर 01:27 बजे

मई में प्रदोष व्रत तिथि
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत

बुधवार, 03 मई 2023
02 मई 2023 रात 11:18 बजे - 03 मई 2023 रात 11:50 बजे
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत
बुधवार, 17 मई 2023
16 मई 2023 रात 11:36 बजे - 17 मई 2023 रात 10:28 बजे

प्रदोष व्रत तिथि जून में
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत, गुरु प्रदोष व्रत

गुरुवार, 01 जून 2023
01 जून 2023 दोपहर 01:39 बजे - 02 जून 2023 दोपहर 12:48 बजे

कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, गुरु प्रदोष व्रत
गुरुवार, 15 जून 2023
15 जून 2023 सुबह 08:32 बजे से 16 जून 2023 सुबह 08:40 बजे तक

प्रदोष व्रत जुलाई में
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत

शनिवार, 01 जुलाई 2023
01 जुलाई 2023 को 01:17 पूर्वाह्न - 01 जुलाई 2023 को रात्रि 11:07 बजे
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, शुक्र प्रदोष व्रत
शुक्रवार, 14 जुलाई 2023
14 जुलाई 2023 शाम 07:17 बजे - 15 जुलाई 2023 रात 08:33 बजे
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत, रवि प्रदोष व्रत
रविवार, 30 जुलाई 2023
30 जुलाई 2023 सुबह 10:34 बजे - 31 जुलाई 2023 सुबह 07:27 बजे

प्रदोष व्रत अगस्त में
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, रवि प्रदोष व्रत

रविवार, 13 अगस्त 2023
13 अगस्त 2023 सुबह 08:20 बजे से 14 अगस्त 2023 सुबह 10:25 बजे तक
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत
सोमवार, 28 अगस्त 2023
28 अगस्त 2023 को शाम 06:23 बजे से - 29 अगस्त 2023 को दोपहर 02:48 बजे तक

प्रदोष व्रत सितंबर में
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, भौम प्रदोष व्रत

मंगलवार, 12 सितंबर 2023
11 सितंबर 2023 को रात 11:52 बजे से 13 सितंबर 2023 को सुबह 02:21 बजे तक
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत
बुधवार, 27 सितंबर 2023
27 सितंबर 2023 सुबह 01:46 बजे से 27 सितंबर 2023 रात 10:19 बजे तक
प्रदोष व्रत अक्टूबर में
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत

बुधवार, 11 अक्टूबर 2023
11 अक्टूबर 2023 शाम 5:37 बजे - 12 अक्टूबर 2023 शाम 07:54 बजे
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत, गुरु प्रदोष व्रत
गुरुवार, 26 अक्टूबर 2023
26 अक्टूबर 2023 सुबह 09:44 बजे से 27 अक्टूबर 2023 सुबह 06:57 बजे तक

प्रदोष व्रत नवंबर में
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत (धनत्रयोदशी), शुक्र प्रदोष व्रत

शुक्रवार, 10 नवंबर 2023
10 नवंबर 2023 दोपहर 12:36 बजे - 11 नवंबर 2023 दोपहर 01:58 बजे
शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत, शुक्र प्रदोष व्रत
शुक्रवार, 24 नवंबर 2023
24 नवंबर 2023 को शाम 07:07 बजे से - 25 नवंबर 2023 को शाम 05:22 बजे तक
प्रदोष व्रत दिसंबर में
कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, रवि प्रदोष व्रत

रविवार, 10 दिसम्बर 2023
10 दिसंबर 2023 सुबह 7:13 बजे से 11 दिसंबर 2023 सुबह 07:10 बजे तक

प्रदोष व्रत कौन से महीने से शुरू करना चाहिए-

 शास्त्रानुसार प्रदोष-व्रत करने का शुभ समया किसी भी मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को बताया गया हैं। तो वहीं श्रावण व कार्तिक मास प्रदोष-व्रत को प्रारंभ करने के लिए अधिक श्रेष्ठ माना गया हैं। 

प्रदोष कब लगता है या प्रदोष व्रत पूजा का समय-

प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा शाम को सूर्यास्त से करीब 45 मिनट पहले और सूर्यास्त के 45 मिनट बाद की जाती है।

कौन सा प्रदोष सबसे अच्छा है-

वैसे तो सारे प्रदोष व्रत को अच्छा माना गया हैं। लेकिन शनि प्रदोष, शनि ग्रह के अनुरूप शनिवार को पड़ने वाला प्रदोष को ज्यादा अच्छा माना गया हैं। 

प्रदोष करने से क्या लाभ मिलता है-

प्रदोष व्रत करने भगवान शिव की असीम अनुकम्पा प्राप्त होती हैं। तथा सोमवार के दिन प्रदोष व्रत करने से संतान रत्न की प्राप्ति होती है। मंगलवार के दिन, प्रदोष व्रत करने से कर्ज से छुटकारा मिल जाता है। इसी तरह प्रदोष व्रत करने से सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। 

प्रदोष व्रत के नियम क्या है-

प्रदोष व्रत विधि  की बात करे तो स्नान आदि करने के बाद आप साफ़ वस्त्र पहन लें। फिर उसके बाद आप बेलपत्र, अक्षत, दीप, धूप, गंगाजल आदि से भगवान शिव की पूजा करें। प्रदोष व्रत में भोजन ग्रहण नहीं किया जाता है। व्रती पूरे दिन का उपवास रखने के बाद सूर्यास्त से कुछ देर पहले दोबारा स्नान कर लें और सफ़ेद रंग  का वस्त्र पहन ले।

इसके बाद पूजा के स्थान को गंगाजल से साफ कर ले। इसके बाद आप गाय का गोबर ले और उसकी मदद से मंडप तैयार कर लें। फिर पांच अलग-अलग रंगों की मदद से आप मंडप में रंगोली बना लें। इसके बाद पूजा की सारी तैयारी करने के बाद आप उतर-पूर्व दिशा में मुंह करके कुशा के आसन पर बैठ जाएं। इसके बाद
 भगवान शिव के मंत्र ऊँ नमरू शिवाय का जाप करें और भगवान शिव को जल अर्पित करे। 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

3,650FansLike
8,596FollowersFollow

Latest Articles