राजस्थान रेप केस؛ राजस्थान में एक बार फिर हैवानियत की सारी हदे पार दो नाबालिग बहनो के साथ सामूहिक दुष्कर्म और दिखी पुलिस की लापरवाही

0
113
राजस्थान रेप केस
Credit Jagruk hindustan
राजस्थान रेप केस; एक बार फिर राजस्थान में दो नाबालिंग बहनो के साथ अपहरण और सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया हैं। हैवानो ने लड़कियों के साथ दुष्कर्म करने के बाद उनको पहाड़ी क्षेत्र में फेककर भाग निकले गाँव वालो की सूचना पर पुलिस वहाँ पहुँची पुलिस ने भी उन लड़कियों के साथ अमानवयी व्यवहार करते हुए लड़कियों को रिक्शे में लेटाकर लाये, उन पीडित लड़कियों के लिए एंबुलेस तक नहीं बुलाया।

विस्तार-

राजस्थान के भीनमाल क्षेत्र के एक गाँव में दो चचेरी बहने अपने घर में सो रही थी। रात में दो चार युवको ने उन लड़कियों को उनके घर से उनका अपहरण कर लिया और उनको एक सुनसान जगह पर ले गये और वहाँ पर उन नाबालिंग लड़कियों के साथ 6 हैवानो ने सामूहिक दुष्कर्म किया और उनको उसी हालत में राजपुरा की पहाड़ियों पर फेंककर भाग गये। 

 घर वालो ने उन दोनो लड़कियों की रातभर खोज की तो वो उन्हें पहाड़ी क्षेत्र में मिली। रात में काफी ज्यादा ठंड होने की वजह से  उन दोनो लड़कियों की हालात काफी बिगड़ गयी थी। जिसके बाद परिजनों ने पुलिस को इस घटना की सूचना दी पुलिस ने भी एंबुलेंस का इंतजाम किये बिना उन दोनो लड़कियों को रिक्शे से अस्पताल भेजा। जिसमें से एक लड़की की हालात काफी गंभीर बताई जा रही हैं। राजस्थान रेप केस में पुलिस पर लगे आरोप 

क्यो लग रही हैं, पुलिस की कार्यवाही पर आरोप-

परिजनो ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा है, कि पुलिस को इस घटना के बारे में सुबह ही पता चल गया था कि लड़कियाँ घर से गायब हैं पुलिस ने खोजने की कोशिश तक नहीं की और जब लड़कियाँ लहुलुहान हालत में पहाड़ियों पर मिली। उनकी हालात इतनी गंभीर थी कि वो चल तक नहीं सकती थी। इसके बाद भी पुलिस ने दुष्कर्म की पुष्टि करने में काफी समय लगया और लड़कियों को एंबुलेंस से भेजने के बजाये रिक्शे से निजी अस्पताल में भर्ती कराया।

आरोपियों ने दंरिदंगी की सारी हदे पार-

लड़कियों की हालत देखकर लगता  हैं, उन भेड़ियों ने लड़कियों से दुष्कर्म करने से पहले उनको बेरहमी से मारा-पीटा हैं। क्योकि उनमें से एक लड़की के सर पर चोट लगी हुई थी। और वो लड़कियाँ राजपुरी की पहाड़ियों पर बेसुध हालत में मिली थी। राजस्थान रेप केस में क्या पुलिस दिखा रही हैं, लापरवाही 

क्या कहना हैं, पुलिस का-

इस मामले में पुलिस अधिकारियों ने कहा हैं, कि उन्होने परिजनो के कहे अनुसार रिपोर्ट लिख ली हैं।और चार आरोपियों को पुलिस ने नामजद् कर लिया हैं। और उनकी तालाश के लिए टीमे बनायी गयी हैं और उनके ठिकानो पर दबिश कर उनकी तालाश कर रही हैं। 

देश व विदेश की खबरो की जानकारी पाने के लिए हमारे साइट जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े तथा हमारे फेसबुक और ट्वीटर अंकाउड को फालो करके हमारे नये आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here