चाइना में टिक बोर्न वायरस से हुई लोगो की मौत, जाने क्या है ये वायरस

0
चाइना के टिक बोर्न वायरस
Credit JagRuk Hindustan

चीन में कोरोना और हन्ता वायरस के बाद 11 साल बाद एक और वायरस आया हैं, जिससे अभी तक जा चुकी हैं, 7 लोगो की जान जा चुकी है, तथा टिक बोर्न वायरस से 67 लोग संक्रमित हो चुके हैं। ये वायरस टिक के काटने से फैल रहा हैं। यह वायरस भी कोरोना वायरस की तरह ही हैं। जैसे कोरोना वायरस ह्यूमन टच से फैलता हैं, वैसे ही ​​​चीन में टिक बोर्न वायरस भी फैल रहा हैं।

क्या हैं, पूरा मामला -

चीन दिन प्रतिदिन वायरस का गढ़ बनता जा रहा हैं। अभी चीन से चमगादड़ से फैला हुआ कोरोना वारयस की वैक्सीन डॉक्टरों को मिली नहीं तबतक चीन में एक और वायरस फैल रहा हैं। कोरोना से अभी पूरी दुनिया परेशान ही हैं। चीन के खिलाफ लोगो के मन में गुस्सा हैं, ही तबतक चीन में एक और वायरस ने पैर पसारना शुरू कर दिया हैं। इस वायरस की वजह ने अभी तक कई लोगो की जान ले ली हैं। इस वायरस का नाम हैं, टिक बोर्न वायरस। ये वायरस भी कोरोना वायरस की तरह ही फैलता हैं।

कैसे फैलता हैं, ये वायरस -

​टिक बोर्न वायरस कोई नया वायरस नहीं हैं।  ये वायरस चीन में 2009 में भी देखने को मिला था। लेकिन उस समय इस वायरस पर वहाँ के डॉक्टरों ने काबू कर लिया था। और लोगो की जाने बच गयी थी। ये वायरस ह्यूमन के ब्लड से तथा उसके म्यूकस से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता हैं।

क्या लक्षण हैं, टिक बोर्न वायरस के -

इस वायरस के भी लक्षण कोरोना जैसे ही व्यक्ति को बुखार तथा खाँसी हो सकता है तथा साथ ही साथ कमजोरी भी लोगो को महसूस होती हैं। टिक के काटने के बाद जब व्यक्ति की इलाज के दौरान जाँच की गयी तब पता चला कि टिक के काटने से व्यक्ति के ब्लड प्लेटलेट्स लगातार कम होता जाता हैं। साथ ही इस वायरस से ग्रसित व्यक्तियों के ल्यूकोसाइट में भी गिरावट देखी गयी हैं। 

क्या हैं, इस मामले में डॉक्टर्स का -

डॉक्टर्स का कहना हैं, कि ये वायरस ह्यूमन टू ह्यूमन फैलता हैं, इस वायरस की वजह से लोगो को बुखार के साथ-साथ खाँसी या कोरोना जैसे अलग-अलग लक्षण भी देखे जा सकते है।​ चाइना टिक बोर्न वायरस ​संक्रमित लोगो की प्लैटलैट्स में कमी देखने को मिली है। तथा व्यक्ति बहुत ही कमजोर लगने लगता हैं। और उनका ये भी कहना हैं, कि इस संक्रमण से ग्रसित व्यक्ति हॉस्पिटल में एक महीने तक भी एडमिट रह सकता हैं। लेकिन इस वायरस का इलाज संभव हैं, अगर इसका पता जल्द ही लग जाये। ये वायरस कोरोना वायरस की जितना खतरनाक वायरस नहीं हैं। इस वायरस का प्रभाव अभी तक केवल चीन में ही देखा गया हैं।

ऐसी ही देश तथा दुनिया से जुडी हर खबर पाने के लिए हमारी वेबसाइट जागरूक हिंदुस्तान से जुड़े। हमारे नए आर्टिकल्स की अपडेट्स पाने के लिए हमारे फेसबुक तथा ट्विटर पेज को फॉलो करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here