उत्तर-प्रदेश सरकार ने गणेश चतुर्थी तथा मोहर्रम पर जुलुस से लेकर जारी किये गाइडलाइन

0
197
गणेश चतुर्थी मोहर्रम गाइडलाइन
Credit JagRuk Hindustan

उत्तर-प्रदेश में कोरोना मरीजो की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। उत्तर-प्रदेश में सबसे ज्यादा कोरोना मरीजो की संख्या उत्तर-प्रदेश के राजधानी लखनऊ तथा कानपुर में देखने को मिली हैं। कोरोना मरीजो की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए उत्तर-प्रदेश सरकार ने गणेश चतुर्थी तथा मोहर्रम को लेकर नयी गाइडलाइन जारी की हैं।

विस्तार -

उत्तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते हुए मामले को देखते हुए उत्तर-प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने गणेश चतुर्थी तथा मोहर्रम को लेकर नयी गाइडलाइन जारी की हैं। सावन आते ही भारत में त्यौहारो का आना भी शुरू हो जाता हैं। और भारतवाषी बड़ी ही धूमधाम से त्यौहारो को मनाते हैं। लेकिन कोरोना जैसी महामारी की वजह से त्यौहारो को सार्वजनिक रूप से मनाने तथा समारोह करने पर रोक लगा दिया हैं।

देशभर में 22 अगस्त से शुरू होने वाले गणेश चतुर्थी तथा 30 अगस्त को मोहर्र्म मनाया जा रहा हैं। हर साल ये त्यौहार बड़े ही  धूमधाम से मनाये जाते हैं। तथा पंडालो में और घरो में गणेश जी की प्रतिमा स्थापित की जाती हैं। तथा लोग हर्षोउल्लास से भगवान गणेश का स्वागत करते हैं। तथा मोहर्रम जुलूस निकाला जाता हैं। जिसमें भारी मात्रा में लोग सम्मलित होते हैं।

लेकिन कोरोना के चलते उत्तर-प्रदेश सरकार ने गणेश चतुर्थी तथा मोहर्रम का त्यौहार मनाने के सम्बन्ध में नयी गाइडलाइन जारी की हैं।

क्या हैं, गाइडलाइन -

उत्तर-प्रदेश सरकार ने गणेश-चतुर्थी को लेकर नयी गाइडलाइन जारी की जिसके अनुसार गणेश-चतुर्थी तथा मोहर्रम में भीड़-भाड़ को मजूरी नहीं दी गयी हैं।

गणेश चतुर्थी में पंडाल में सावर्जनिक पूजा तथा भीड़-भाड़ पर रोक लगा दी हैं। तथा हर जिलो के डीएम को ये आदेश दिया गया हैं, कि वो इन बातो का ध्यान रखे। कि पूजा स्थल पर पाँच से ज्यादा लोग नहीं इकट्ठा होगे। तथा लोग घरों पर ही पूजा तथा उपासना करे। तथा मंदिरों में सोशल डिस्टेसिंग का ध्यान रखे। अपने फेस को कवर करके रखे। ताकि कोरोना जैसी महामारी से लोगो का बचाव किया जा सके। और इसे फैलने से रोका जा सके।

मोहर्रम को लेकर भी यही गाइडलाइन जारी हैं।  मोहर्रम में सावर्जनिक तौर पर जुलुस में करने पर भी रोक लगायी गयी हैं।

साजिशकर्ताओं पर ध्यान रखा जायेगा -

सरकार द्वारा ये भी व्यवस्था की गयी हैं, कि सार्वजनिक तौर पर साजिशकर्ताओं तथा महौल में खलन डालने वाले लोगो के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। अगर किसी के द्वारा भी सरकार द्वारा जारी की गयी गाइडलाइन का पालन नहीं करते हुए पाया गया तो उसके खिलाफ भी उचित कार्यवाही की जायेगी। तथा हर जगह पुलिस कर्मियों को तैनात किया जायेगा। तथा पूजा-पाठ में शामिल होने वाले लोगो की मानीटरिंग भी की जायेगी।

कन्टेनमेंट जोन में ज्यादा सख्ती अपनायी जायेगी। ताकि कोरोना के मामले बढ़े ना और लोगो को परेशानियों का सामना ना करना पडे।

धार्मिक गुरूओ से भी अपील की गयी हैं -

गणेश-चतुर्थी तथा मुहर्रम को लेकर धार्मिक गुरूओ से अपील की गयी हैं, कि वो अपने-अपने धर्म के लोगो से अपील करे की वो लोग शान्ति से त्यौहारो को अपने-अपने घरो में मनाये तथा जुलुस और भीड़-भाड़ एकत्रित ना करे। सरकार द्वारा जारी की गयी गाइडलाइन का भी पालन करे। ताजिया तथा जुलुस निकालने की भी अनुमति नहीं दी गयी हैं।

इसके साथ-साथ गणेश चतुर्थी में भी पंडाल में भी कोई मूर्ति स्थापित नहीं की जायेगी। तथा किसी भी प्रकार की शोभायात्रा नहीं निकाली जायेगी।

प्रसाशन तथा पुलिस अफसरो से भी कहा गया हैं, कि वो लोग कमेटी की बैठक करे। तथा इन कमेटियो में और शान्ति का माहोल कायम रखने में धर्मगुरूओं का भी सहयोग ले।

ऐसे ही नयी अपडेट्स तथा जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक और ट्विटर अकाउंट से जुड़े। आप हमारी साइट जागरूक हिंदुस्तान से जुड़कर ऐसे किसी भी अपडेट्स से जुड़ सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here