उत्तरप्रदेश बलरामपुर में भी हथरस जैसा मामला गैंगरेेप करके हैवानो ने पीड़िता का कमर और दोनो पैर तोड़ दिये

0
237
बलरामपुर रेप केस
Credit JagRuk Hindustan

उत्तरप्रदेश में इस समय हरथस केस को लेकर पूरे देश में आक्रोश हैं, इसी बीच बलरामपुर में भी एक 22 साल की युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसके बाद पीड़िता के दोनो पैर और कमर तोड़ने का मामला सामने आया हैं। हैवाने ने रेप करके पीड़िता को रिक्से से घर भेज दिया। जिसके बाद  पीड़िता की मृत्यु हो गयी। बलरामपुर रेप केस 

विस्तार बलरामपुर रेप केस -

उत्तरप्रदेश के हाथरस में जिस तरह से हैवानियत का मामला सामने आया था। उसके बाद बलरामपुर में भी एक ऐसी ही हैवानियत सामने आयी हैं। बलरामपुर में 22 साल की दलित छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म और पैर तोड़ने तथा कमर तोड़ने का मामला आया हैं। जिसके बाद आरोपियो ने लड़की को रिक्शे से घर भेजा दिया। घर पहुचने पर उसकी मृत्यु हो गयी।

यह घटना बलरामपुर के गैसड़ी कोतवाली क्षेत्र की घटना हैं। युवती के परिजनो का आरोप हैं, कि 22 साल की दलित छात्रा 29 सितंबर की सुबह करीब 10 बजे वो बीकॉम में एडमीशन कराने घर से निकली थी।लेकिन वो घर नहीं वापस आयी जिसके बाद शाम को उसके परिजनो द्वारा खोजबीन करना शुरू कर दिया गया। तथा शाम 7 बजे वो रिक्शे से काफी गंभीर हालत में घर पहुँची। और वो दर्द से कहरा रही थी।

क्या कहना हैं, पीड़िता की माँ का-

पीड़िता की माँ का कहना हैं, कि जब उनकी बेटी को इनजेक्शन लगा कर उनकी बेटी के साथ सामूहिक बलत्कार किया। और उसका पैर और कमर तोड़ दिया।जिसके बाद उनकी बेटी को रिक्शे से घर भेज दिया जब उनकी बेटी घर पहुचीँ तो उसने अपनी माँ से कहा कि माँ मुझे बहुत दर्द हो रहा हैं, अब मैं नहीं बच पाऊँगी । जिसके बाद पीड़िता की मृत्यु हो गयी।

पीड़ीता के हाथ में ग्लूकोज लगा हुआ था। और जब छात्रा घर पहुँची तो कीचड़ में लतपत थी। जब परिजनो ने मामले की जाँच की तो उन्हे पता चला कि पीड़िता को ग्लूकोज गाँव के ही एक डाक्टर ने लगाया हैं।डाक्टर को गाँव के ही एक लड़के ने  पीड़िता के इलाज के लिए घऱ में बुलाया था।

परिजनो ने कहा कि जब युवती एडमिशन करा कर घर आ रही थी। तो 5-6 लड़को ने उनका अपहरण कर लिया और उसके बाद उसके गाँव के ही एक घर में ले जाकर उसके साथ गैंगरेप किया गया। जिस रिक्से से युवती घर पहुचीँ थी। उस रिक्शे पर खून के धब्बे लगे थे। तथा रास्ते से पीड़िता की जूती भी वरामद हुई हैं।

क्या कहना  हैं, वहाँ के एसपी का-

बलरामपुर रेप केस एसपी ने बताया कि यह दोस्ती के बहाने रेप करने का मामला हैं, तथा युवती के पैर और कमर नहीं टूटे हुये थे।युवती के काफी गंभीर चोट लगी हुई थी। जिसकी वजह से उसकी मृत्यु हो गयी, उन्होने कहा कि दोनो आरोपियों शाहिद और साहिल को गिरफ्तार किया गया हैं। वो दोनो भी गैसंडी के ही रहने वाले हैं। बलरामपुर रेप केस

पोस्टमार्ट काफी देर तक किया गया-

आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं, कि युवती के साथ किस तरह कि हैवानियत को अंजाम दिया गया हैं। संयुक्त जिला अस्पताल में युवती का पोस्टमार्टम करीब  6 घंटो तक चला था। बलरामपुर के सीएमओ तक को पोस्टमार्टम हाउस आना पड़ा था। चार डाक्टरो के पैनल द्वारा युवती का पोर्टमार्टम किया गया। देर रात को पीड़िता का शव परिजनो को सौपा गया था।

युवती बी.काम की छात्रा थी और साथ ही साथ को गाँव में किसानो को एक संस्थान के साथ मिलकर दो सालो से जागरूक करती थी। हैवानो की हैवानियत का शिकार हुई छात्रा एक मेधावी छात्रा थी। 

उत्तरप्रदेश की ताजा जानकारी पाने के लिए हमारे साइट जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े तथा हमारे फेसबुक और ट्वीटर अंकाउड को फालो करके हमारे नये आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन पाये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here