3 मई के बाद किन जिलो में मिलेगी कितनी राहत

2
431
safe-from-corona

कोरोना वायरस के बढते मामले देखकर भारत सरकार ने लाकडॉउन  की तारीख बढ़ाकर 4 मई से 17 मई तक कर दी है, वही इससे निपटने के लिए सरकार ने देश के जिलो को तीन जोन में बांट दिया है, पहला जोन रेड जोन दूसरा जोन आरेंज जोन और तीसरा जोन ग्रीन जोन है।

कितने जिलो को किन-किन जोन में बाँटा गया है -

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश के लिए 130 जिलों को रेड जोन की सूची में रखा है इन जिलो में कोराना के सबसे ज्यादा मामले सामने आए है, रेड जोन के तहत इनको हाटस्पाट घोषित किया गया है, 284 को ऑरेज जोन में व 319 जिलो को ग्रीन जोन घोषित किया गया है, कंटेनमेंट आपरेशन के लिए इन जिलो को श्रेणीबद्ध किया गया है, इन जिलो को राज्यो तथा केन्द्र शासित प्रदेशो द्वारा तीन मई से अपनाया जायेगा क्योकि तीन मई को लाकडॉउन का दूसरा चरण समाप्त होगा तथा 4 मई से लाकडॉउन का तीसरा चरण शुरू होगा जोकि 17 मई तक चलेगा।

 यह सूची हर सप्ताह संशोधित की जाती है तथा संशोधित नियमों को राज्यो और केन्द्र शासित प्रदेशो में लागू किया जाता है, देश के कई बड़े नगर भी कोरोना के मुख्य केन्द्र बने हुए है।

- रेड जोन क्या है

रेड जोन वाले इलाको में घर-घर कोरोना के संदिग्ध मरीजो की जांच की जाती है, और जिले के प्रभावित इलाके को सील कर दिया जाता है, किसी को आने-जाने की इजाजत नहीं होती है, लेकिन रेड जान में जरूरी सेवाओ की छूट होती है रेड जोन में सर्दी-खासी, जुकाम और बुखार की शिकायत वाले लोगो की कोरोना जांच की जाती है।

यानि रेड जोन में प्रभावित इलाके में कडी पाबंदी रहेगी लेकिन जिले के बाकी इलाकों में थोडी बहुत छूट मिल सकेगी, लेकिन स्थिति को देखते हुए स्थानीय प्रशासन पर निर्भर करता है कि क्या-क्या लोगो को राहत मिल सकती है।

आरेंज जोन क्या है

आरेंज जोन उन इलाको को कहते है, जहां कोरोना के ना तो बहुत ज्यादा मरीज है ना ही न के बराबर हो यहा पर कोरोना के कुछ केस जरूर पाए गए है, आरेंज जोन में वो इलाके हैं जहाँ पर कोरोना के एक या दो मामले सामने आ रहे है यानी बड़े पैमाने पर उन इलाको में कोरोना के मरीज नहीं मिल रहे हैं।

ग्रीन जोन क्या है

ग्रीन जोन की सूची में वो जिले आते है जो कोरोना मुक्त है, सरकार की कोशिश है कि जो जिले या इलाके ग्रीन जोन में है वहाँ संक्रमण न फैले, ग्रीन जोन में वो इलाके आते है जिनमें 21 दिन तक कोरोना से संक्रमित कोई मरीज ना मिले, भारत में 319 जिलें ग्रीन जोन की सूची मे हैं, देश में कुल 736 जिलो जिनमें से 400 जिलो में कोरोना के मामले सामने आ चुके है।

इस बार सरकार ने थोड़ी राहत दी है, जिन लोगो को पान या शराब की लत थी उनके लिए राहत की बात है सरकार ने शराब और पान की दुकाने खोल दी है साथ ही साथ यह नियम भी है कि एक साथ पांच से ज्यादा लोग नहीं होंगे और उन लोगो के बीच कम से कम छह फीट की दूरी रहेगी।

कब होते है रेड से आरेंज और ग्रीन

रेड जोन वाले जिले आरेंज जोन की सूची में तब दर्ज किए जाते है जब उसमें 14 दिनों में कोई भी करोना का नया केस दर्ज न किया गया हो, उसी तरह आरेंज जोन ग्रीन में तब्दील होता है जब वहाँ पर 14 दिन में कोई नया केस न दर्ज किया गया हो, इसका मतलब यह है कि रेड जोन को ग्रीन में बदलने में 28 दिन का वक्त लग सकता है।

केन्द्र सरकार द्वारा दी गयी रियायते ग्रीन, ऑरेज व रेड जोन मे-

गतिविधि

रेड जोन

ऑरेज जोन

ग्रीन जोन

यात्रा- एयर,ट्रेन,मेंट्रो

नहीं

नहीं

नहीं

इंटर स्टेट रोड गतिविधि

नहीं

नहीं

नहीं

एजूकेशन इस्टीट्यूटशन

नहीं

नहीं

नहीं

होटल, सिनेमा, मॉल

नहीं

नहीं

नहीं

पूजा स्थल, समारोह

नहीं

नहीं

नहीं

पार्लर, बार्बर शॉप

नहीं

हाँ

हाँ

मेडिकल क्लिनिक,ओपीडी

हाँ

हाँ

हाँ

बाहर नहीं जा सकते- प्रेगनेन्ट लेडी व 10 व 65 साल

नही.

नहीं

नहीं

ऑटो,टैक्सी

नहीं

1+1

1+1

चार पहिया वाहन

1+2

1+2

1+2

दो पहिया वाहन

1+0

1+1

1+1

जिले के अन्दर चलने वाली बसे

नहीं

50%

50%

शहरी उद्योग

हाँ

हाँ

हाँ

प्राइवेट व सरकारी (नॉन-कोर)

हाँ

हाँ

33%

कृषि से सम्बन्धित कार्य

हाँ

हाँ

हाँ

बैंक व फाइनेन्स

हाँ

हाँ

हाँ

कोरियर व पोस्टल

हाँ

हाँ

हाँ

ई-कॉम आवश्यक वस्तुऐ

हाँ

हाँ

हाँ

शहरी विकास कार्य

हाँ

हाँ

हाँ

​भारत के राज्यो के कितने जिले रेड, ऑरेज व ग्रीन जोन में है

राज्य

रेड जोन

ऑरेज जोन

ग्रीन जोन

कुल

आन्ध्र प्रदेश

5

7

1

13

अंडमान निकोबार

1

0

2

3

अरूणाचल प्रदेश

0

0

25

25

असम

0

3

30

33

बिहार

5

20

13

38

चंडीगण

1

1

25

27

दिल्ली

11

0

0

11

दादरा नगर हवेली दमन दिव

0

0

1

1

गुजरात

9

19

5

33

गोवा

0

0

2

2

हरियाना

2

18

2

22

हिमांचल प्रदेश

0

6

6

12

झारखण्ड

1

9

14

24

जम्मू व कश्मीर

4

12

4

20

कर्नाटक

3

13

14

30

केरला

2

10

2

14

मध्य प्रदेश

9

19

24

52

लदाक

0

2

0

2

लक्ष्यदीप

0

0

1

1

महाराष्ट्र

14

16

6

36

मणीपुर

0

0

16

16

मेघालय

0

1

10

11

मिजोरम

0

0

11

11

नागालैण्ड

0

0

11

11

ओड़ीसा

3

6

21

30

पंडुचेरी

0

1

3

4

पंजाब

3

15

4

22

राजस्थान

8

19

6

33

सिक्किम

0

0

4

4

तमिलनाडू

12

24

1

37

तेलंगाना

6

18

9

33

त्रिपुरा

0

2

6

8

उत्तर प्रदेश

19

36

20

75

उत्तराखण्ड

1

2

10

13

बेस्ट बंगाल

10

5

8

23

​वर्तमान समय में भी कोरोना का कोई विशेष इलाज नहीं है, इसकी रोकथाम का मुख्य उपाय अभी लाकडॉउन व सोसल डिस्टेन्सिग तथा टेस्टिग ही है, इस प्रकार की अन्य खबरो के बारे में जानने के लिए जागरूक हिन्दुस्तान से जुड़े रहे तथा अपने विचारो को कमेन्ट बाक्स में सांझा कीजिए।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here