Teachers Day 2022: क्यो मनाया जाता हैं 5 सितंबर को ही टीचर्स-डे, जानिए इसके पीछे की कहानी

Date:

Teachers Day 2022: हर साल भारत में 5 सितंबर यानि आज के ही दिन अध्यापकों के सम्मान के रूप में टीचर्स-डे मनाया जाता हैं।  5 सितंबर को पूरा देश टीचर्स डे के रूप में भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती मनाता है।

Teachers Day 2022 History-

भारत के पूर्व राष्ट्रपति, विद्वान, दार्शनिक और भारत रत्न से सम्मानित डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन (Dr Sarvepalli Radhakrishnan) का जन्म 5 सितंबर 1888 को तमिलनाडु के तिरुमला में हुआ था। साल 1994 में यूनेस्कों द्वारा शिक्षकों के सम्मान ने 5 अक्टूबर को विश्वभर में शिक्षक दिवस मनाने की घोषणा की थी। लेकिन भारत में 5 सितंबर को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन के अवसर पर हम शिक्षक दिवस मनाते हैं।

 डॉ. राधाकृष्णन ने अपने जीवन के 40 साल बतौर शिक्षक छात्रों के साथ व्यतीत किया. डॉ. राधाकृष्णन द्वारा भारतीय शिक्षा में सुधार लाने और उसे संवारने में अहम योगदान दिया था। सर्वपल्ली राधाकृष्णन के व्यक्तित्व से उनके साथी और उनके छात्र बेहद प्रभावित थे।

राष्ट्रपति बनने के बाद जब उनके कुछ छात्रों और दोस्तों ने उनसे संपर्क किया और उनका जन्मदिन मनाने की अनुमति मांगी तो उन्होंने कहा कि अगर उनका जन्मदिन अलग से मनाने के बजाय अगर 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। 

इन-इन देशो में 5 सितंबर को टीचर्स-डे मनाया जाता हैं-

5 सितंबर को भारत समेत इन देशो में टीचर्स-डे मनाया जाता हैं।  इन देशों में ऑस्ट्रेलिया, चाइना, जर्मनी, बांग्लादेश, श्रीलंका, यूके, पाकिस्तान, ईरान आदि शामिल हैं। इसके अलावा 11 देश 28 फरवरी को भी टीचर्स-डे के रूप में मनाया जाता हैं। 

शिक्षक दिवस का महत्व-

शिक्षक दिवस के दिन सभी छात्र अपने शिक्षकों व गुरुओं को प्रति आभार व सम्मान प्रकट करते हैं। और देशबर के स्कूल, कॉलेज और हायर एजुकेशनल इंस्टीट्यूट में डॉ. राधाकृष्णन को श्रद्धांजलि दी जाती है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

Popular

More like this
Related